नई दिल्ली: निर्भया गैंगेरप केस के चारों दोषियों मुकेश, अक्षय, विनय और पवन को फांसी देने की तारीख तय हो गई है. दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 3 मार्च सुबह 3 बजे से 6 बजे के बीच फांसी पर चढ़ाने का फैसला सुनाया है. गौरतलब है कि ये लगातार तीसरी बार है जब कोर्ट ने चारों दोषियों को फांसी की सजा देने की तारीख तय की है. चारों दोषियों की फांसी की तारीख तीसरी बार जारी होने पर निर्भया की मांग ने कहा कि उन्हें कि वो उम्मीद कर रही हैं कि कम से कम इस बार तीन मार्च को चारों आरोपियों को फांसी के तख्ते पर चढ़ा दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि आखिरकार फांसी की तारीख तीसरी बार तय तो हो गई है लेकिन इससे वो बहुत खुश नहीं हैं क्योंकि पहले दो बार भी फांसी की सजा की तारीख आगे बढ़ाई जा चुकी है. वहीं दूसरी तरफ निर्भया के पिता ने कहा कि कोर्ट का आदेश इस बात की गवाही देता है कि अपराधियों को देर-सबेर सजा जरूर मिलती है.

निर्भया के चारों चारों दोषियों में से सिर्फ पवन गुप्ता चाहे तो इस बार भी फांसी से बच सकता है क्योंकि उसके पास राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाने और फिर पुनर्विचार याचिका लगाने का विकल्प बाकी है. पटियाला हाउस कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायधीश धर्मेंद्र राणा ने चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई. इस दौरान चारों दोषियों में से एक मुकेश कुमार ने अपनी वकील के तौर पर वृदा ग्रोवर को लेने से मना कर दिया.

इसके बाद कोर्ट ने एडवोकेट रवि काजी को मुकेश का वकील नियुक्त किया. कोर्ट को ये भी बताया गया कि चारों दोषियों में से एक विनय शर्मा जेल में भूख हड़ताल पर बैठा है. विनय के वकील ने कोर्ट को बताया कि जेल में विनय का उत्पीड़न हुआ है और उसे सिर पर चोट लगी है. इसके अलावा विनय के वकील ने कहा कि विनय मानसिक तौर पर बीमार है और ऐसे में उसे फांसी पर नहीं चढ़ाया जा सकता है.

विनय के वकील की दलीलों पर कोर्ट ने तिहाड़ जेल अधीक्षक से कानून के मुताबिक विनय की देखभाल करने का आदेश दिया है. इसके अलावा पवन गुप्ता के वकील ने भी कोर्ट से कहा कि वो फांसी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका और राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजना चाहते हैं.

Nirbhaya Convicts Execution Controversy: निर्भया के दोषियों को 1 फरवरी सुबह 6 बजे दी जाएगी फांसी, नया डेथ वारंट जारी

Nirbhaya Case Execution: निर्भया गैंगरेप केस के दोषियों की फांसी पर सस्पेंस, तिहाड़ जेल ने मांगा फांसी के लिए अतिरिक्त समय