नई दिल्ली. Delhi pollution दिल्ली में प्रदूषण से हालत गंभीर है. दिवाली के बाद दिल्ली की हवा ज़हरीली हो गई है. पटाखों के बाद पराली के जलने की वजह से दिल्ली वासी दोहरी मार झेल रहे है. दिल्ली-एनसीआर में कोहरे की चादर छाई हुई है और प्रदूषण का स्तर काफी खतरनाक स्तर पर पहुंचा हुआ है. यमुना का पानी भी प्रदूषण के चलते प्रदूषित हो गया है, पानी में मानो सफ़ेद चादर की मोटी परत बैठ गई हो. देश में छठ का महपर्व चल रहा है, और लोग इसी पानी से सूर्य को अर्घ और स्नन कर रहे है.

किसान ने कहा- पराली से प्रदूषण नहीं

बढ़ते प्रदूषण पर राजनीति भी गरम नजर आ रही है. आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच जबरदस्त टकराव देखा जा रहा है. वहीं बढ़ते प्रदूषण पर दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर एक किसान ने पराली जलाई है और अजीबोगरीब बात कही है. किसान ने कहा, “पराली साल में एक बार जलती है लेकिन प्रदूषण तो पूरे साल ही रहता है वो प्रदूषण कहां से आता है. कोई पराली जलाकर खुश नहीं है, पराली जलाना मजबूरी है.”

 

केंद्र सरकार से पड़ोसी राज्यों में पराली जलने की समस्या से निपटने के लिए एक इमरजेंसी बैठक की मांग की थी . आज दिल्ली की अलग अलग एजेंसियों के साथ अहम बैठक की गई, इस बैठक में प्रदूषण से निपटने के लिए फैसले लिए हैं। दिल्ली सरकार ने प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली के विभिन्न इलाकों में वाटर कैनन से छिड़काव किया है.वहीं कई ऐसी टीमें बनाई हैं जो ओपन बर्निंग की जांच के लिए पेट्रोलिंग करेंगी.

यह भी पढ़ें:

Chhath: दिल्ली में छठ पूजा को लेकर राजनीति तेज, बीजेपी कार्यकर्ताओं का ITO पर प्रदर्शन, AAP ने कही ये बात

500 Crore’s Projects Inaugurated In Karnal हरियाणा में तेज गति से हो रहा सड़क और रेलमार्गों का निर्माण: सीएम

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर