पटना: एक तरफ चीन से जूझ रहे भारत के लिए नेपाल ने भी मुसीबत पैदा कर दी है. नेपाल ने भारत को धमकी दी है कि वो अगर तटबंध नहीं हटाता तो वो उसे तोड़ देगा. नेपाल की इस धमकी के बाद बिहार में बाढ़ का खतरा कई गुना बढ़ गया है. जानकारी के मुताबिक नेपाल ने रौतहट जिला प्रशासन ने बंजरहा के पास भारतीय सीमा में नो मेंस लैंड से सटे हुए लालबकेया नदी के तटबंध के एक हिस्से को हटाने की धमकी देते हुए कहा है कि इसे ना हटाया गया तो तोड़ दिया जाएगा.

नेपाल की इस चेतावनी ने बिहार की चिंता बढ़ा दी है क्योंकि बरसात के इस मौसम में अगर नेपाल से सटे तटबंध को हटाया गया तो इलाके के लोगों को बाढ़ से जान-माल का भारी नुकसान उठाना पड़ेगा. दरअसल दोनों देशों के बीच संधि है कि नो-मेंस लैंड की जमीन पर कोई निर्माण कार्य नहीं किया जाएगा. फिर भी वहां तटबंध बना दिया गया है. रौतहट के डीएम वासुदेव घिमिरे ने कह दिया कि नो-मेंस लैंड पर बने बांध को हटाने पर दोनों देशों के अधिकारियों के बीच सहमति बन गयी है. इसके बावजूद भी बांध को नहीं हटाया गया, तो नेपाल सरकार खुद ही बांध हटा देगी.

वासुदेव घिमिरे ने बताया कि दोनों देशों के सुरक्षाकर्मियों व अधिकारियों की उपस्थिति में नो-मेंस लैंड को अतिक्रमण कर बागमती तटबंध बनाने की पुष्टि के बाद नो-मेंस लैंड को खाली करने पर सहमति बनी है. गौरतलब है कि पिछले दिनों नेपाल पुलिस ने सीमा पर गोलीबारी कर दी थी. नेपाल और भारत का एतिहासिक संबंध रहा है. दोनों देशों के बीच रोटी-बेटी का रिश्ता रहा है लेकिन पिछले कुछ दिनों से हालात खराब हैं. अधवारा समूह की लालबकेया नदी का यह वही तटबंध है, जिसकी मरम्मत को नेपाल के सुरक्षाकर्मियों ने पिछले दिनों रोक दिया था.

Coronavirus Update Highlights: भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन, पीएम मोदी की अपील- किसी भी हाल में घर से ना निकलें

नेपाल का भारत को झटका- पुणे में होने वाले BIMSTEC देशों के पहले सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने से किया मना