चेन्नई. chennai चेन्नई में भारी बारीश से आम जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है. लगातार हो रही बारिश ने लोगो की मुश्किलें बड़ा दी है. चेन्नई और उपनगरीय इलाकों में लगातार भारी बारिश होने से जगह-जगह जलजमाव हो गया है. आपको बता दें 2015 के बाद शहर में पहली बार इतनी अधिक बारिश हुई है। प्रशासन ने शहर में अलर्ट जारी कर दिया है. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन बाढ़ प्रभावित इलाकों के दौरे पर है और छतिग्रस्त इलाकों का जायजा ले रहे है.

12 घंटे में 20 सेमी बारिश हुई
स्वास्थ्य मंत्री मा सुब्रमण्यम ने कहा कि चेन्नई में कल रात से करीब 12 घंटे में 20 सेमी बारिश हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों के मुताबिक चेन्नई और उपनगरों में बारिश 13 सेमी से 23 सेमी के बीच रही. तमिलनाडु सचिवालय के पास कामराजार सलाई बिंदु (मरीना समुद्र तट पर स्थित डीजीपी कार्यालय) में सबसे अधिक 23 सेमी और उत्तरी चेन्नई के उपनगरीय क्षेत्र एन्नोर में 13 सेमी बारिश हुई.

इन इलाकों में बाढ़ के हालात
चेन्नई में भारी बारिश के चलते एग्मोर, डाउटन, केएन गार्डन, पदलम, ओटेरी लेफ्ट ब्रिज, पड़ी ब्रिज, सत्य नगर शेल्टर, बाबा नगर, जीकेएम कॉलोनी और जवाहर नगर इलाके में बाढ़ के हालात बन गए हैं। इन इलाकों में प्रशासन ने बाढ़ का अलर्ट जारी किया गया है।

दोनों जलाशयों से छोड़ा गया लगभग 500 क्यूसेक पानी

तमिलनाडु राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने ट्वीट कर बताया कि जलग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश को देखते हुए पूंडी जलाशय में क्षमता से अधिक भरे पानी को छोड़ा गया, जिसे चरणबद्ध तरीके से 3,376 क्यूसेक पानी तक बढ़ाया गया. वहीं भारी बारिश के चलते NDRF की चार टीमों को शहर में तैनात किया गया है ताकि वे इमरजेंसी में रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम दे सकें।

यह भी पढ़ें:

Ahmadnagar : अहमदनगर के सिविल हॉस्पिटल के आईसीयू में भीषण आग, 10 मरीजों की मौत

Petrol Diesel Price पंजाब की कांग्रेस सरकार ने भी घटाए पेट्रोल व डीजल के दाम

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर