नई दिल्ली: अयोध्या में बुधवार को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम बिना किसी रूकावट के संपन्न हो गया. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर की नींव रखी. लेकिन इसके साथ ही एक विवाद भी शुरू हो गया है और वो विवाद है एक तस्वीर को लेकर जिसे कई बीजेपी नेताओं ने सोशल मीडिया पर साझा किया है. दरअसल इस तस्वीर में पीएम मोदी श्री राम चंद्र जी को हाथ पकड़कर मंदिर ले जाते हुए नजर आ रहे हैं.

इस तस्वीर पर ही बवाल मचा है, लोग रह रहे हैं कि पीएम मोदी को आदर्श मानना अच्छी बात है लेकिन आपने इस तस्वीर में पीएम मोदी का कद श्री राम से भी बड़ा बना दिया क्या ये ठीक है? वो भगवान राम जो दुनिया भर के करोड़ों लोगों के आदर्श हैं, राम चरित मानस जिसे पढ़कर लाखों-करोड़ों लोगों को प्रेरणा मिलती है, जो करोड़ों लोगों की आस्था के प्रतीक हैं उनका कद क्या पीएम मोदी से छोटा हो सकता है? क्या पीएम मोदी इतने बड़े हो गए कि वो भगवान राम का हाथ पकड़कर उन्हें मंदिर ले जाएं?

कर्नाटक की बीजेपी नेता शोभा करंदलाजे ने भी इस फोटो को ट्वीट किया जिसमें पीएम मोदी, भगवान राम की उंगली पकड़कर मंदिर की ओर जा रहे हैं. इस ट्वीट पर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने लिखा कि ना प्रेम सीखा है, ना त्याग सीखा है, ना करुणा सीखी है, ना अनुराग सीखा है, खुद को राम से बड़ा दिखाकर, खुश होने वालों तुमने, श्री रामचरितमानस का कौन सा भाग सीखा है?

गौरतलब है कि बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब रामलला के दर्शनों के लिए गए तो उन्होंने मंदिर में शाष्टांग प्रणाम किया. यही नहीं उन्होंने भूमि पूजन की जगह से मिट्टी लेकर अपने माथे पर भी लगाई लेकिन बीजेपी नेता ऐसी तस्वीर शेयर कर रहे हैं जिसमें पीएम मोदी भगवान राम से भी बड़े नजर आ रहे हैं जिसे निश्चित तौर पर सही नहीं ठहराया जा सकता.

Yogi Adityanath on Mosque: मंदिर की तरह मस्जिद के शिलान्यास कार्यक्रम पर जाने को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- ना कोई मुझे बुलाएगा, ना मैं जाऊंगा

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: क्योंकि राम काज कीन्हे बिनु मोहि कहां विश्राम, सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है, यहां पढ़िए पीएम मोदी का पूरा भाषण