नई दिल्ली: सोमवार को दिल्ली के आंध्र भवन में मुख्यमंत्री चंद्र बाबू नायडू के धरना प्रदर्शन के दौरान धरनास्थल पर लगे एक प्लेकार्ड ने बीजेपी को विपक्ष पर हमलावर होने का मौका दे दिया है. दरअसल धरनास्थल से कुछ ही दूर एक प्लेकार्ड रखा था जिसमें लिखा था जिसके हाथ में चाय का जूठा कप होने चाहिए था जनता ने उसके हाथ में देश दे दिया. बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने इस प्लेकार्ड को दिखाते हुए घटनास्थल का एक वीडियो डालते हुए ट्वीट किया कि क्या पिछड़ी जाति का होना या गरीब होना अभिशाप है?

गौरतलब है कि साल 2014 का लोकसभा चुनाव मणिशंकर अय्यर के एक बयान के इर्द-गिर्द घूमता रहा था जिसमें उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी को कांग्रेस दफ्तर के बाहर चाय की दुकान खोल लेनी चाहिए. बीजेपी ने पूरे चुनावी कैंपेन को चाय के इर्द गिर्द ही मोड़ दिया था और मणिशंकर अय्यर के बयान के इर्द-गिर्द ही पूरा कैंपेन घूमता रहा जिसका बीजेपी को जबर्रदस्त फायदा मिला था.

गुजरात विधानसभा चुनावों में फिर एक बार कांग्रेस ने वही गलती की और पीएम मोदी की जाति पर सवाल उठा दिए. इसे भी पीएम मोदी ने अपने पक्ष में इस्तेंमाल करते हुए कहा था कि कांग्रेस के पास विकास पर बात करने को कुछ नहीं है वो मेरी जाति और मेरे बाप के बारे में सवाल पूछ रहे हैं. लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आने वाले दिनों में बीजेपी इस कार्ड का अपने भाषणों में जिक्र कर राजनीतिक फायदा लेने की कोशिश कर सकती है. हालांकि ये बात किसी नेता ने नहीं कही है लिहाजा विपक्ष के पास बचने का रास्ता भी है. 

Chandrababu Naidu Hunger Strike Live Update: आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे के लिए भूख हड़ताल पर बैठे चंद्रबाबू नायडू को समर्थन देने पहुंचे राहुल गांधी और मनमोहन सिंह

Gujarat Riots Plea Against PM Modi In Supreme Court: गुजरात दंगों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई जुलाई तक के लिए टाली

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App