मुंबई: दिन- गुरुवार, जगह- मुंबई का शिवाजी महाराज टर्मिनस रेलवे स्टेशन को आजाद मैदान से जोड़ने वाला फुटओवर ब्रिज, समय- शाम करीब 7:30 बजे. बड़ी संख्या में कार, स्कूटर और मोटर साईकिल वाले सड़क से गुजर रहे थे कि चौराहे पर लगी बत्ती लाल हो गई और ट्रॉफिक कुछ देर के लिए रूक गया. उसी दौरान लोगों की आंखों ने वो मंजर देखा जिसके वो अगले कुछ महीनें भुला नहीं पाएंगे. सामने मौजूद पुल का एक बड़ा हिस्सा धड़ाम से गिरता है और चारों तरफ दो मिनट के लिए धुंआ-धुंआ हो जाता है. चीख-पुकार मच जाती है.

प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक ‘हम बेसब्री से सिग्नल ग्रीन होने का इंतजार कर रहे थे ताकि आगे जा सकें. इस बीच ब्रिज का एक बड़ा हिस्सा गिरता है और उसके साथ गिरते हैं वो लोग जो उस दौरान ब्रिज से गुजर रहे थे या ब्रिज के नीचे खड़े थे. अगर कुछ सैकेंड पहले बत्ती हरी हो जाती तो सैंकड़ो गाड़ियां और टू व्हीलर पुल की चपेट में आ जाते और घायल और मरने वालों की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा होती.’

लेकिन इस हादसे में उन पांच बदनसीबों के नसीब में मौत लिखी थी जो उस पुल की चपेट में आ गए. इस हादसे में अबतक 35 से ज्यादा लोग घायल हैं जिनका इलाज चल रहा है. सरकार ने पांच लाख का मुआवजा देकर अपनी जिम्मेदारी से इतिश्री कर ली है लेकिन हर हादसे के बाद एक ही सवाल आता है जिसका कोई जवाब नहीं होता कि आखिर इसका जिम्मेदार कौन और कबतक इस तरह के हादसे लोगों को बमौत मारती रहेगी?
Mumbai CST Foot Over Bridge collapse Social Media Reaction: मुंबई सीएसटी रेलवे स्टेशन के पास फुटओवर ब्रिज गिरने से हड़कंप, सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया पर फूटा लोगों का गुस्सा

Mumbai CST Foot Over Bridge collapse Live Updates: मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल के पास फुटओवर ब्रिज गिरा, 4 लोगों की मौत, 34 घायल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App