Saturday, December 3, 2022

मूडीज ने घटाया भारत का विकास दर अनुमान, घरेलू खर्चों पर भी पडे़गा असर

नई दिल्ली। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने गुरुवार को उच्च मुद्रास्फीति का हवाला देते हुए 2022 के लिए भारत के आर्थिक विकास के अनुमान को 9.1 प्रतिशत से घटाकर 8.8 प्रतिशत कर दिया। ग्लोबल मैक्रो आउटलुक 2022-23 के अपने अपडेट में, मूडीज ने कहा कि उच्च आवृत्ति डेटा बताता है कि दिसंबर तिमाही 2021 से विकास की गति इस साल के पहले चार महीनों में जारी रही है।

इन खर्चों पर पडे़गा असर

हालांकि, कच्चे तेल, खाद्य और उर्वरक की कीमतों में बढ़ोतरी का असर आने वाले महीनों में घरेलू वित्त और खर्च पर पड़ेगा। ऊर्जा और खाद्य मुद्रास्फीति के और सामान्यीकरण को रोकने के लिए दरों में वृद्धि से मांग में सुधार की गति धीमी हो जाएगी। मूडीज ने कहा कि हमने भारत के लिए अपने कैलेंडर-वर्ष 2022 के विकास पूर्वानुमान को 9.1 प्रतिशत के मार्च के पूर्वानुमान से घटाकर 8.8 प्रतिशत कर दिया है, जबकि हमारे 2023 के विकास पूर्वानुमान को 5.4 प्रतिशत पर बनाए रखा है।

निवेश चक्र हो रहा मजबूत

मजबूत ऋण वृद्धि, कॉर्पोरेट क्षेत्र द्वारा घोषित निवेश के इरादे में बड़ी वृद्धि और सरकार द्वारा पूंजीगत व्यय के लिए उच्च बजट आवंटन से संकेत मिलता है कि निवेश चक्र मजबूत हो रहा है। मूडीज ने कहा कि वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल और खाद्य कीमतों में और वृद्धि होने तक अर्थव्यवस्था ठोस विकास गति को बनाए रखने के लिए पर्याप्त मजबूत दिखाई देती है।

यूक्रेन रूस युद्ध का असर

आपको बता दें कि इससे पहले मूडीज ने चालू वर्ष के लिए भारत की विकास दर का अनुमान 9.5 फीसदी से घटाकर 9.1 फीसदी कर दिया था। उच्च ईंधन और उर्वरक आयात बिल को सरकार के पूंजीगत व्यय के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। मूडीज ग्लोबल मैक्रो आउटलुक 2022-23 (मार्च 2022 अपडेट) के अनुसार, यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से आर्थिक विकास को नुकसान होगा। रेटिंग एजेंसी ने कहा था कि 2023 में भारत की विकास दर 5.4 फीसदी रहने की संभावना है। 

यह भी पढ़ें :

बीजेपी MYY फॉर्मूला: पीएम मोदी राजस्थान बीजेपी की लगाएंगे नैया पार, चुनावों में फिर ‘MYY’ फॉर्मूला बनेगा संकटमोचन

भारत में ओमिक्रोन सबवैरिएंट BA.4 का पहला केस मिला, इन्साकाग ने की पुष्टि, जानें क्या है ये नया वैरिएंट?

 

Latest news