नई दिल्ली: कोरोना को लेकर एक और बुरी खबर आ रही है. मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के रिसर्च के मुताबिक कोरोनो वायरस महामारी का सबसे बुरा दौर अभी आने वाला है. रिसर्च के मुताबिक भारत में जल्द ही कोरोना की दवा या वैक्सीन नहीं बनी तो कोविड-19 के मामलों में भारी उछाल देखने को मिल सकता है. रिसर्च के मुताबिक 2021 तक आखिर तक भारत में हर दिन 2.87 लाख कोरोना के मामले आएंगे जिससे भारत दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित देश बन जाएगा.

एमआईटी के स्लोन स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के हाजी रहमानंद, टीआई लिम और जॉन स्टेरमैन द्वारा आयोजित स्टडी में कहा गया है कि 2021 तक इसी समय तक जहां भारत में 2.87 लाख केस रोज आएंगे तो अमेरिका में 95,400, दक्षिण अफ्रीका में 20,600, ईरान में 17,000, इंडोनेशिया में 13,200, ब्रिटेन में 4,200, नाइजीरिया में 4,000 मामले सामने आएंगे.

स्टडी में ये भी कहा गया है कि इलाज या टीकाकरण के अभाव में 84 देशों में 2021 तक 249 मिलियन यानी 24.9 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित होंगे जबकि अनुमान लगाया गया है कि इससे करीब 17.5 लाख मौतें हो सकती हैं. अनुमान लगाया गया है कि भविष्य में कोरोना के संक्रमण का यह आंकड़ा टेस्टिंग पर नहीं, बल्कि संक्रमण को कम करने के लिए सरकार और आम आदमी की इच्छा शक्ति के आधार पर अनुमानित है. जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के मुताबिक वैश्विक COVID-19 मामलों की कुल संख्या बढ़कर 11.7 मिलियन से ज्यादा हो गई है, जबकि मृत्यु 543,000 है.

Brazil President Covid 19 Positive: मामूली सा फ्लू बनाकर बनाया था कोरोना का मजाक, अब खुद कोविड-19 पॉजिटिव हुए ब्राजील के राष्ट्रपति

AGVA on Ventilator: PM केअर्स वेटिंलेकर पर कंपनी बोली- राहुल डॉक्टर नहीं, तकनीकी मामले नहीं पता