नई दिल्ली. संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ कांग्रेस के दो सांसदों ने बदसलूकी का प्रयास किया. दोनों सांसद डीन कुरियाकोस और टीएन प्रतापन सदन में स्मृति ईरानी की ओर बढ़ गए. बीजेपी ने इसे महिला सदस्य के साथ दुर्व्यवहार करार देते हुए दोनों सांसदों को सस्पेंड करने की मांग की. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्पीकर ओम बिड़ला ने संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी से इस बारे में नोटिस मांगा है. स्मृति ईरानी से लोकसभा में बदसलूकी की कोशिश करने वाले कांग्रेस सांसद डीन कुरियाकोस और टीएन प्रतापन सदन से 5 दिन के लिए सस्पेंड किए जा सकते हैं.

केंद्रीय स्मृति ईरानी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ‘कांग्रेस सांसद मुझे बेखौफ बोलने की सजा देना चाहते हैं. सदन में कुछ पुरुष सांसद मेरी तरफ बांहें चढ़ाकर बढ़ने लगे. एक युवा सांसद ने यह तक कह दिया कि स्मृति ईरानी बोलीं कैसे? मैं बहुत चौंक गई हूं. महिलाओं के मुद्दे पर बोलने के लिए विपक्ष मुझे कैसे सजा देता है, यह सोमवार को संसद में देखूंगी’.

ईरानी ने संसद में विपक्षी सांसदों पर हमला करते हुए कहा कि आप लोग यहां चिल्ला रहे हैं. इसका मतल है कि आप एक महिला को अपनी बेबाक राय रखने से रोक रहे हैं. आप उस समय तो चुप थे तो जब पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव के दौरान रेप को राजनीतिक हथियार बनाकर उपयोग किया जा रहा था.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने लोकसभा में इस कृत्य की निंदा की. उन्होंने कहा कि स्मृति ईरानी के साथ कांग्रेस सासंदों ने जो दुर्व्यवहार किया है वो गलत है और सांसदों को ईरानी से माफी मांगनी चाहिए.

Also Read ये भी पढ़ें-

क्या है नागरिकता संशोधन बिल जिसे नरेंद्र मोदी सरकार सोमवार को लोकसभा में करेगी पेश, क्यों हो रहा इस पर विवाद

 हैदराबाद डॉक्टर महिला से गैंगरेप के आरोपियों का एनकाउंटर न्याय है तो न्यायपालिका पर ताला लगा दो!