नई दिल्लीः पंजाब नेशनल बैंक में 14 हजार करोड़ रुपये के घोटाले के आरोपी गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर मेहुल चौकसी को अब भारत वापस लौटने पर मॉब लिंचिंग का डर सताने लगा है. जिसके लिए चौकसी स्पेशल कोर्ट से मांग की है कि उसके खिलाफ गैर जमानती वॉरंट को रद्द कर दिया जाए क्योंकि अगर वो देश में लौटता है तो उसको भीड़ द्वारा हत्या किए जाने की आशंका है. जानकारों के मुताबिक कानून के शिकंजे से बचने के लिए चौकसी ने ये डर जताया है.

इससे पहले आयकर विभाग द्वारा चार्जशीट पर संज्ञान लेते हुए प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) कोर्ट ने चौकसी के खिलाफ मार्च और जुलाई में गैर जमानती वॉरंट जारी किया था. लेकिन मेहुल चौकसी 14 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले के उजागर होने से पहले ही देश छोड़कर भाग गया था.

मेहुल चौकसी ने स्पेशल कोर्ट में एक याचिका दायर कर कहा है कि यदि वो भारत वापस आते हैं तो उन्हें अपनी कंपनी के पूर्व कर्मचारियों से जान का खतरा है इसके साथ ही उन्होंने गिरफ्तार होने के बाद जेल के स्टाफ और अन्य कैदियों से भी अपनी जान को खतरा बताया है.

याचिका में चौकसी ने कहा है कि याची के लिए कंपनी का संचालन अब असंभव हो गया है. कर्मचारियों को वेतन नहीं मिला इसके अलावा जो कर्जदाता हैं उनके पैसे भी वापस नहीं मिले हैं. ऐसे में ये सभी लोग याची के खिलाफ गुस्से में हैं जिसके चलते उनकी जान को भारत आने पर खतरा है.

याचिका के अंत में कहा गया है कि, ‘भारत में मॉब लिंचिंग की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं जिसके चलते आम आदमी सड़कों पर ही त्वरित न्याय करने के लिए ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. ऐसे हालात में चौकसी अगर भारत लौटते हैं तो उनको भी इसी तरह भीड़ द्वारा हत्या का खतरा है.

 

नीरव मोदी- विजय माल्या जैसे भगोड़ों पर नकेल कसेगी मोदी सरकार, संपत्ति जब्त करने वाले अध्यादेश को कैबिनेट की मंजूरी

संसदीय समिति ने बैंकिंग स्कैम पर पूछताछ के लिए आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को किया तलब- सूत्र

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App