Megha Rajagopalan Pulitzer Prize भारतीय मूल की महिला पत्रकार मेघा राजगोपालन को पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इसे पत्रकारिता जगत में सबसे बड़ा पुरस्कार माना जाता है। मेघा को चीन में डिटेंशन सेंटर पर की गई स्टोरी की वजह से इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

मेघा ने सैटेलाइट तस्वीरों का विश्लेषण कर बताया था कि चीन ने कैसे लाखों की संख्या में उइगर मुसलमानों को कैद करके रखा हुआ है। वहीं मेघा के साथ इंटरनेट मीडिया बजफीड न्यूज के दो पत्रकारों को भी पुलित्जर पुरस्कार दिया गया। भारतीय मूल के पत्रकार नील बेदी को भी स्थानीय रिपोर्टिंग कैटेगरी में पुलित्जर पुरस्कार दिया गया है। उन्होंने फ्लोरिडा में सरकारी अधिकारियों के बच्चों की तस्करी को लेकर टंपा बे टाइम्स के लिए इंवेस्टीगेशन स्टोरी की थी।

इसके अलावा अमेरिका की डार्नेला फ्रेजियर को ‘पुलित्जर स्पेशल साइटेशन’ का अवार्ड मिला। उन्होंने मिनेसोटा में उस घटना को रिकॉर्ड किया था, जिस दौरान अश्वेत-अमेरिकन जॉर्ज फ्लॉएड की जान चली गई थी। इसके बाद दुनियाभर में नस्लीय हिंसा के विरोध में भारी प्रदर्शन हुए थे।

क्या है पुलित्जर पुरस्कार

पत्रकारिता के क्षेत्र में पुलित्जर पुरस्कार को सबसे बड़ा पुरस्कार माना जाता है। सबसे पहले यह पुरस्कार साल 1917 में दिया गया था। इसे अमेरिका में पत्रकारिता के क्षेत्र का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार भी माना जाता है।

UP Monsoon Letest Update : यूपी में समय से पहले मानसून की दस्तक, शुरू हुई बारिश, अगले दो दिनों में सभी शहरों को भीषण गर्मी से मिलेगी राहत

Happy Birthday Disha Patani: बर्थडे गर्ल दिशा ने पिंक हॅाट बिकनी में फोटो शेयर कर इंटरनेट पर मचाया तहलका, फैंस ने कहा- गॉर्जियस

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर