मुंबई. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव, पीएमसी बैंक में आए संकट पर पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्र की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है. महाराष्ट्र दौरे पर रहे मनमोहन सिंह ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में पीएमसी बैंक संकट को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से इस पर गंभीर विचार करने और जल्द से समाधान निकालने की अपील की. उन्होंने खाताधारकों से मुलाकात कर कहा कि पीएमसी बैंक में आए आर्थिक संकट से 16 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. वे सरकार रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के साथ मिलकर खाताधारकों के हित में कोई हल निकालने की अपील कर रहे हैं.

मनमोहन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष का उपयोग कर पीएमसी बैंक के ग्राहकों को राहत दी जाए. मनमोहन सिंह ने कहा कि पीएम नेशनल रिलीफ फंड के जरिए पीएमसी बैंक से प्रभावित हुए ग्राहकों की सरकार को मदद करनी चाहिए. पीएमसी बैंक में नगद निकासी पर लगे प्रतिबंध के बाद जो ग्राहक इलाज करवा पाने में असमर्थ हैं उन्हें इस फंड से पैसा देना चाहिए.

पीएमसी बैंक के करीब तीन खाताधारकों की अब तक तीन खाताधारकों की सदमे की वजह से मौत हो गई है. यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंच गया है. बैंक के लाखों ग्राहकों को 100 प्रतिशत बीमा कवर की मांग पर सुप्रीम कोर्ट जल्द ही सुनवाई भी करेगा.

दूसरी तरफ मुंबई पुलिस की आर्थिक शाखा ने बुधवार को पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक के पूर्व निदेशक सुरजीत अरोड़ा को गिरफ्तार किया है. पीएमसी बैंक कथित घोटाले में एचडीआईएल कंपनी को दिए 4,355 करोड़ रुपये का लोन देने में अरोड़ा की भी भूमिका थी.

इससे पहले पुलिस ने एचडीआईएल ग्रुप के प्रोमोटर राकेश और सारंग वाधवन के साथ पीएमसी बैंक के पूर्व अध्यक्ष वरयाम सिंह और पूर्व एमडी जॉय थॉमस को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है.

गौरतलब है कि पिछले महीने पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक में आर्थिक संकट के बाद आरबीआई ने खाताधारकों को अगले 6 महीने तक बैंक से 1,000 रुपये से ज्यादा की नगद निकासी पर रोक लगा दी थी. हालांकि बाद में यह सीमा बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी लेकिन कई खाताधारकों का बड़ी धनराशि बैंक में अटकी है.

इसी बीच सामने आया था कि पीएमसी बैंक ने पूर्व में एचडीआईएल कंपनी को 4,355 करोड़ रुपये का लोन दिया था. कंपनी लोन चुकाने में असर्मथ रही और बैंक का एनपीओ दोगुने से ज्यादा हो गया. आरबीआई ने इसके खिलाफ सख्ती अपनाते हुए बैंक से नगद निकासी की सीमा बांध दी लेकिन इसमें ज्यादा परेशानी खाताधारकों को हो रही है.

Also Read ये भी पढ़ें-

PMC Bank के तीन खाताधारकों के मौत के बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, 15 लाख ग्राहकों की 100% बीमा कवर की मांग

पीएमसी घोटाले से आहत यूनियन की मांग, भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्ण नियंत्रण में रहें सहकारी बैंक

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App