मुंबई. महाराष्ट्र में महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है. बीजेपी और शिवसेना के बीच बात न बनने और फिर शिवसेना द्वारा एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की कोशिशों के बीच ही राज्यपाल द्वारा राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश और फिर केंद्रीय कैबिनेट की सहमति के साथ ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा इसपर मुहर लगाने के बाद महाराष्ट्र मेें राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है. शिवसेना ने प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है और जल्द सुनवाई की गुहार लगाई है.

आपको बता दूं कि महाराष्ट्र में पिछले महीने विधानसभा चुनाव में मतदान हुआ. भाजपा और शिवसेना के बीच गठबंधन ने संयुक्त बहुमत हासिल किया, लेकिन दोनों सहयोगी मुख्यमंत्री का पद साझा करने पर सहमत नहीं हो सके. देवेंद्र फडणवीस ने पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा दे दिया और फिर राज्यपाल ने भाजपा, को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया. लेकिन पार्टी ने इसे अस्वीकार कर दिया और शिवसेना पर गठबंधन के लिए जनादेश का अपमान करने का आरोप लगाया. बीजेपी ने कहा कि शिवसेना अगर विपक्षी दलों की मदद से सरकार बनाना चाहते हैं तो शिवसेना के भाग्य की कामना करते हैं.

इसलिए, दूसरी सबसे बड़ी पार्टी, शिवसेना को कोशिश करने के लिए आमंत्रित किया गया था. इसने सोमवार को दावा किया कि राकांपा और कांग्रेस भाजपा के बिना अपने प्रशासन को वापस लेने के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमत हो गए थे, लेकिन यह समय सीमा से पहले समर्थन पत्र प्राप्त करने में विफल रहे. अब राज्यपाल ने एनसीपी को सरकार बनाने के लिए इच्छा और क्षमता. व्यक्त करने के लिए कहा है.

यहां पढ़ें Maharashtra Shiv Sena NCP Congress Govt Politics Latest Updates:

शाम 8. 20 बजे–   बीजेपी के नेता नारायण राणे ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए बीजेपी की कोशिश जारी. लोकतंत्र में कोई भी समीकरण बन सकता है. राणे ने आगे कहा कि लगता नहीं है कांग्रेस के साथ जाएगी शिवसेना.

शाम 8. 15 बजे–  उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना ने बीजेपी के साथ जाने का विकल्प खत्म नहीं किया लेकिन बीजेपी ने कर दिया. 

शाम 8. 10 बजे– बीजेपी ने झूठ बोलकर मुझे ठेस पहुंचाई. उद्धव ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व ही हमारी विचारधारा है. अलग विचारधारा से कैसे जुड़े उसपर विचार चल रहा है. उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि उन्होंने शरद पवार से नई शुरूआत करने के लिए कहा है.

शाम 8. 10 बजे– उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल से नाराजगी जताते हुए कहा कि हमने पहले भी राज्यपाल से सरकार बनाने की इच्छा जताई थी. राज्यपाल ने समर्थन जुटाने के लिए समय नहीं दिया. बीजेपी को 48 घंटे का समय दिया गया लेकिन हमें सिर्फ 24 घंटे. शिवसेना ने समय की मांग की थी. हम अभी भी सरकार बना सकते हैं.

शाम 8. 05 बजे– एनसीपी और कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस- एनसीपी का बयान देखा. कांग्रेस और एनसीपी ने हमसे संपर्क किया था. शिवसेना और एनसीपी से बात चल रही है. उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना को अभी वक्त चाहिए.

शाम 7. 55 बजे– कांग्रेस नेता ने कहा कि सोमवार 11 नवंबर को शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस से आधिकारिक तौर पर संपर्क किया. इतने महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले ये जरूरी है कि सभी बिंदुओं पर स्पष्टीकरण होना चाहिए. दोनों पक्षों में आम सहमति बनाने के बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी.

शाम 7. 50 बजे– कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि दोनों दलों के नेताओं के बीच चर्चा हुई और प्रेस विज्ञप्ति तैयार की गई. कांग्रेस और एनसीपी जिन्होंने महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव में गठबंधन के साथ लड़ा था, उन सभी वरिष्ठ नेताओं ने मीटिंग की.

शाम 7. 45 बजे– महाराष्ट्र की राजनीति को लेकर कांग्रेस-एनसीपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी प्रमुख शरद पवार, अजीत पवार, मल्लिाकजुर्न खड़गे, अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल शामिल हुए.

शाम 6:08 बजे: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के बाद गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने विभिन्न दलों को सरकार बनाने के लिए 15 दिन का समय दिया, लेकिन कोई भी पार्टी बहुमत साबित करने और गठबंधन सरकार बनाने में असफल रही, इसके बाद उन्हें लगा कि प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाना ही बेहतर विकल्प है. इसके बाद प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की सिफारिश की गई.  

शाम 5:58 बजे: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के खिलाफ शिवसेना सुप्रीम कोर्ट में एक और याचिका दायर करने वाली है. साथ ही शिवसेना ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट से तत्काल सुनवाई की मांग की है. इस बीच गृह सचिव राष्ट्रपति को ताजा स्थिति के बारे में बताने के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंच चुके हैं.

शाम 5:50 बजे- महाराष्ट्र विधानसभा का निलंबित कर दिया गया है. महाराष्ट्र चुनाव के नतीजे आने के 20 दिन बाद भी सरकार बनाने पर विभिन्न दलों के बीच सहमति न बन पाने के बाद आखिरकार राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है.

शाम 5:45 बजे- राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महाराष्ट्र में 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लगा दिया है. इस तरह शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस द्वारा सरकार बनाने की कोशिशों को करारा झटका लगा है.

शाम 5:38 बजे- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद से ही इस बात की चर्चा और ज्यादा होने लगी है कि क्या आननफानन में राष्ट्रपति शासन की मंजूरी दी गई है और राज्यपाल ने इतनी हड़बड़ी क्यों दिखाई. इस बीच ये विवाद भी गहरा गया है कि जब राज्यपाल ने कर्नाटक में बीजेपी को सरकार बनाने के लिए 15 दिन का समय दिया था तो फिर मुंबई में एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस को वक्त क्यों नहीं दिया गया.

शाम 5:30 बजे- महाराष्ट्र में आखिरकार राष्ट्रपति शासन लगा ही दिया गया. मंगलवार शाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यपाल और केंद्रीय कैबिनेट की सिफारिश पर मुहर लगा दी. इस तरह शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोशिशों को करारा झटका लगा है. 

शाम 5:20 बजे- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की तैयारी जोरों-शोरों से चल रही है और माना जा रहा है कि कुछ देर में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति शासन लगाने की घोषणा कर सकते हैं. कोविंद पंजाब में किसी कार्यक्रम में शामिल होने के बाद दिल्ली वापस लौट रहे हैं और स्थिति देखने के बाद अहम घोषणा कर सकते हैं.

शाम 5:10 बजे- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए राज्यपाल और केंद्रीय कैबिनेट की राष्ट्रपति को सिफारिश के बाद मंगलवार शाम गृह सचिव ने गृह मंत्री अमित शाह को ताजा स्थिति के बारे में बताया.

शाम 4:50 बजे- महाराष्ट्र में एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस की सरकार बनाने की कोशिशों के बीच गवर्नर द्वारा राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिशों पर घमासान मचा है. मंगलवार शाम कांग्रेस के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल एनसीपी चीफ शरद पवार से मिलने मुंबई पहुंचे.

शाम 4:05 बजे- शिवसेना ने महाराष्ट्र गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है और मामले की आज ही सुनवाई की मांग की है. इस बीच एनसीपी ने कहा है कि जब गवर्नर से 2 दिन की मोहलत मांगी गई थी तो फिर राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की जरूरत क्या थी.

शाम 3.45 बजे: शिवसेना ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की नरेंद्र मोदी कैबिनेट और राज्यपाल कोश्यारी की सिफारिश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. सीनियर वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने शिवसेना की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है.

दोपहर 3.20 बजे: राजभवन में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी इस बात से संतुष्ट थे कि जैसा कि महाराष्ट्र सरकार ने संविधान के अनुसार नहीं किया जा सकता है, आज संविधान के अनुच्छेद 356 (राष्ट्रपति शासन) के प्रावधानों के अनुसार एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है.

दोपहर 3.10 बजे: महाराष्ट्र में सरकार बनाने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. उन्होंने राज्यपाल के फैसले को चुनौती दी है. राज्यपाल ने शिवसेना को एनसीपी और कांग्रेस से समर्थन पत्र हासिल करने के लिए तीन दिनों का समय देने से इनकार किया था. शिवसेना ने अपनी याचिका में कहा है कि राज्यपाल को बहुमत साबित करने का मौका देना चाहिए.

दोपहर 3 बजे: नवाब मलिक ने कहा, पार्टी का मानना है कि तीनों दलों (कांग्रेस, राकांपा, शिवसेना) के साथ आए बिना वैकल्पिक सरकार बनाना संभव नहीं है. यदि तीनों एक साथ नहीं आते हैं, तो महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार नहीं हो सकती है.

दोपहर 2.50 बजे: नवाब मलिक ने कहा, राज्यपान ने कल हमें हिस्सेदारी का दावा करने के लिए बुलाया और आज रात 8:30 बजे तक का समय दिया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़गे और के सी वेणुगोपाल मुंबई आ रहे हैं और शाम 5 बजे पवार से मुलाकात करेंगे. उनकी चर्चा के बाद निर्णय लिया जाएगा.

दोपहर 2.40 बजे: एनसीपी नेता, नवाब मलिक ने कहा, आज एनसीपी की बैठक हुई. सभी 54 विधायक मौजूद थे. यह निर्णय लिया गया है कि राज्य में अनिश्चितता को देखते हुए, हम शरद पवार जी को वैकल्पिक सरकार पर निर्णय लेने का अधिकार देंगे. शरद पवार के नेतृत्व में एक समिति बनाई जाएगी.

दोपहर 2.30 बजे: सूत्रों का कहना है कि कैबिनेट मंत्रिमंडल ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन के लिए सिफारिश की है.

दोपहर 2.20 बजे: कांग्रेस नेता, सुशील कुमार शिंदे ने कहा, कांग्रेस के देर से आने का कोई मुद्दा नहीं है, हम शुरू से ही सतर्क रहे हैं. हमने उनसे (एनसीपी) पूछा था कि क्या उन्होंने (राज्यपाल को) एक पत्र भेजा है. चीजों को एक साथ करना होगा, वे हमारे साथी हैं. जो भी फैसला लिया जाएगा, वह एक साथ किया जाएगा.

दोपहर 2.10 बजे: सूत्रों का कहना है कि अगर महाराष्ट्र के राज्यपाल राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाते हैं, तो शिवसेना सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकती है. उद्धव ठाकरे ने इस मुद्दे पर कपिल सिब्बल और अहमद पटेल से बात की है.

दोपहर 1.50 बजे: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ब्राजील में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए आज दोपहर को रवाना होने से ठीक पहले एक कैबिनेट बैठक बुलाई है. महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने की राज्यपाल की सिफारिश पर चर्चा की जानी है.

दोपहर 1.30 बजे: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग सकता है. दरअसल आज राज्यपाल ने राष्ट्रपति से इसके लिए सिफारिश की है. वहीं एनसीपी के अलावा, कांग्रेस, शिवसेना और बीजेपी सरकार बनाने के लिए सभी मुमकिन कोशिशों में लगी है.

दोपहर 1.20 बजे: एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी से पूछा गया, अगर एनसीपी के मुख्यमंत्री (महाराष्ट्र में) का परिदृश्य है, तो आपकी पार्टी का रुख क्या होगा. इस पर उन्होंने कहा, पहले निकाह होगा, उसके बाद सोचेंगे की बेटा होगा या बेटी. अभी तो निकाल ही नहीं हुआ. विचार करने के लिए कुछ भी नहीं. ये सब खेल हो रहा है.

दोपहर 1.10 बजे: एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, हम न तो भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार का समर्थन करेंगे और न ही शिवसेना सरकार का नेतृत्व करेंगे. हम अपना रुख दोहराते हैं. अब मैं खुश हूं कि अगर कांग्रेस-राकांपा शिवसेना का समर्थन कर रही है, तो लोगों को पता चल जाएगा कि कौन किसके वोट काट रहा है और कौन टक्कर दे रहा है किसके साथ.

दोपहर 12.50 बजे: मुंबई में भाजपा नेता आशीष शेलार ने आज लीलावती अस्पताल में शिवसेना नेता संजय राउत से मुलाकात की. राउत को सीने में दर्द की शिकायत के बाद कल अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

दोपहर 12.40 बजे: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, एनसीपी और कांग्रेस ने चुनाव पूर्व गठबंधन किया था और अंतिम निर्णय एक सामूहिक निर्णय होगा. एनसीपी के साथ हमारी बातचीत जारी है, और हम केवल तब ही आगे बढ़ेंगे जब उनके साथ चर्चा की जाएगी.

दोपहर 12.30 बजे: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और अहमद पटेल आज मुंबई में एनसीपी नेताओं से मुलाकात करेंगे.

दोपहर 12.20 बजे: मुंबई में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे आज लीलावती अस्पताल में पार्टी नेता संजय राउत से मिलने पहुंचे. राउत को सीने में दर्द की शिकायत के बाद कल अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

दोपहर 12.10 बजे: कगडा चंद्या पाडवी, महाराष्ट्र से कांग्रेस नेता ने कहा, प्रक्रिया अभी भी चल रही है, लेकिन अंतिम परिणाम सकारात्मक होगा. व्यक्तिगत रूप से मुझे लगता है कि तीनों (शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी) दल सरकार बनाएंगे और शिवसेना नेता सीएम होंगे.

दोपहर 12 बजे: एनसीपी नेता अजीत पवार ने कहा, जो भी निर्णय लिया जाएगा, सामूहिक रूप से लिया जाएगा, इसलिए हम कल कांग्रेस की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे थे, लेकिन यह नहीं आया, हम इस पर अकेले फैसला नहीं कर सकते. कोई गलतफहमी नहीं है, हम एक साथ चुनाव लड़े हैं और एक साथ हैं.

सुबह 11.50 बजे: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने केंद्रीय भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्री अरविंद सावंत (शिवसेना सांसद) का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को सावंत के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है.

सुबह 11.40 बजे: मुंबई में एनसीपी प्रमुख शरद पवार आज लीलावती अस्पताल में शिवसेना नेता संजय राउत से मुलाकात करने पहुंचे. राउत को कल सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

सुबह 11.30 बजे: एनसीपी प्रमुख शरद पवार से यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस की ओर से देरी हो रही है, उन्होंने कहा, मैं कांग्रेस से बात करूंगा.

सुबह 11.20 बजे: राकांपा प्रमुख शरद पवार से यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस और राकांपा के बीच आज एक बैठक होनी है, उन्होंने कहा, कौन कहता है कि कोई बैठक है? मुझे नहीं पता.

सुबह 11.10 बजे: कांग्रेस नेता संजय निरुपम का कहना है कि उनकी पार्टी की महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोई नैतिक जिम्मेदारी नहीं है और राज्य को राष्ट्रपति शासन के लिए लाने के लिए भाजपा और शिवसेना को जिम्मेदार ठहराते हैं.

सुबह 11 बजे: शिवसेना नेता संजय राउत ने विश्वास व्यक्त करने के लिए एक प्रसिद्ध कविता पोस्ट की है कि उनकी पार्टी प्रबल होगी. उन्होंने लिखा, लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती. हम होंगे कामयाब. जरूर होंगे.

सुबह 10.50 बजे: विशेषज्ञों ने कहा कि सोमवार को महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना और कांग्रेस के बीच एक समझदारी का विचार बहुतों को हैरान कर गया. लेकिन यह भारत में सरकार बनाने के लिए एक साथ आने वाले राजनीतिक विरोधों का एक विलक्षण उदाहरण नहीं होगा.

सुबह 10.40 बजे: भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार ने सोमवार शाम संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी ने महाराष्ट्र में विकासशील स्थिति पर रुकने और देखने की नीति अपनाने का फैसला किया है. उन्होंने भाजपा की कोर कमेटी की बैठक के बाद प्रेस से बात की.

Also read, ये भी पढ़ें: Uddhav Thackeray To Be Next Maharashtra CM: कभी शिवसेना नहीं संभालना चाहते थे उद्धव ठाकरे, अब संभालेंगे महाराष्ट्र !

BJP 700 Crore Rupees Donations Received: बीजेपी ने बताया वित्त वर्ष 2018-19 में 700 करोड़ रुपये दान राशि की जमा

DK Shivakumar Admitted in Bengaluru Hospital: सीने में दर्द की शिकायत के बाद डीके शिवकुमार को बेंगलुरू के अस्पताल में भर्ती

Sanjay Raut Admitted in Mumbai Hospital: महाराष्ट्र सरकार बनाने को लेकर चल रही कवायद के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने मुंबई अस्पताल में करवाई एंजियोप्लास्टी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App