मुंबई.महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नतीजों के 21वें दिन भी चुनाव पूर्व बीजेपी शिवसेना के एऩडीए गठबंधन की सरकार ना बनती देख सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा सौंप दिया है. फडणवीस थोड़ी देर में मीडिया से बात करेंगे. इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत एनसीपी के शरद पवार से मिलने पहुंचे हैं. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे 24 अक्टूबर को चुनाव नतीजों के बाद से ही बीजेपी और शिवसेना के बीच 50-50 फॉर्मूले के तहत आदित्य ठाकरे के लिए मुख्यमंत्री पद मांग रहे थे जिसके लिए बीजेपी तैयार नहीं हुई. फड़णवीस के इस्तीफे के बाद अब अगर शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर या उनके समर्थन से सरकार नहीं बनाई तो शनिवार यानी 9 नवंबर तक केंद्र सरकार महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का ऐलान कर सकती है. महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है और नई सरकार का गठन इससे पहले हो जाना चाहिए नहीं तो प्रेसिडेंट रूल लगना तय है.

भले ही यह 288 सदस्यीय सदन में 105 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन बीजेपी सतर्कता बरतती नजर आ रही है, क्योंकि शिवसेना मुख्यमंत्री पद के बराबर हिस्सेदारी की मांग नहीं कर रही है. पार्टी के सूत्रों ने बताया कि भाजपा दो विकल्पों पर विचार कर रही है. पहला समझौते के माध्यम से भाजपा-शिवसेना की सरकार बनाए या दूसरा, अगर गतिरोध जारी रहता है तो फडणवीस अगले 15 दिनों के लिए कार्यवाहक सरकार चला सकते हैं. ऐसी स्थिति में जब कोई सरकार नहीं बनती है, तो राष्ट्रपति शासन का पालन करेगा.

यहां पढ़ें Maharashtra Government Formation Or President Rule Update

शाम 6. 42 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा- यह बहुत दुखद है कि गंगा की सफाई करते समय उनके दिमाग प्रदूषित हो गए और मुझे बुरा लगा कि हमने गलत लोगों के साथ गठबंधन किया. हमने चर्चा के लिए दरवाजे कभी बंद नहीं किए थे, उन्होंने हमसे झूठ बोला इसलिए हमने उनसे बात नहीं की. हमने अभी तक एनसीपी के साथ बातचीत नहीं की है.

शाम 6. 35 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा- हम अभी भी बीजेपी को विरोधी दल के तौर पर नहीं देखते लेकिन सीएम तो शिवसैनिक ही बनेगा. बीजेपी कैसे सरकार बनाएगी यहां?

शाम 6.30 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा- राम किसी एक दल के भगवान नहीं हैं. देवेंद्र फडणवीस ने मुझे फोन किया था और मेरे पास वक्त भी था लेकिन मैंने उनसे बात नहीं की. भला झूठे लोगों से क्या बात करूं. 

शाम 6.27 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा- मैंने बालासाहब से वादा किया था कि एक दिन शिवसेना का मुख्यमंत्री बनेगा और मैं यह वादा पूरा करूंगा. मुझे इसके लिए अमित शाह और दवेंद्र फडणवीस की जरूरत नहीं है.

शाम 6.25 बजे: उद्धव ठाकरे की प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने हरियाणा के डिप्टी सीएम जेजेपी के दुष्यंत चौटाला का वीडियो दिखाया जिसमें उन्होंने चुनावी कैंपेन में पीएम मोदी के खिलाफ बयान दिया था. उद्धव ने कहा कि मैंने कब प्रधानमंत्री के खिलाफ कुछ भी बोला. 

शाम 6.20 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा- बीजेपी  ने हमें उप मुख्यमंत्री पद ऑफर किया था. पिछले पांच वर्षों में हुए विकास कार्यों का सारा श्रेय फडणवीस खुद लेने की कोशिश कर रहे हैं. 

शाम 6.17 बजे:  उद्धव ठाकरे ने कहा- शिवसेना पर झूठे आरोप लगाए गए हैं, अमित शाह का नाम लेकर फडणवीस ने मुझ पर झूठे आरोप लगाए. हमें शाह, फडणवीस की मदद नहीं चाहिए. 

शाम 6.15 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू, उद्धव ने कहा- देवेंद्र फडणवीस को सीएम के कार्यकाल की बधाई, मैंने उनका प्रेस कॉन्फ्रेंस देखा. उनकी कुछ बातों से मुझे दुख पहुंचा है. 

शाम 6.00 बजे: बीजेपी के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा- मेरी मौजूदगी में बीजेपी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद के लिए 50:50 फॉर्मूले की बात नहीं हुई थी. 

शाम 5.50 बजे: बीजेपी के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा- महाराष्ट्र में सबसे सफल गठबंधन बीजेपी-शिवसेना का ही रहा है. मैं समझता हूं कि दोनों पार्टियों का गठबंधन ही महाराष्ट्र में स्थाई सरकार बना सकते हैं. 

शाम 5.40 बजे: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शाम 6 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. इस प्रेस वार्ता पर सभी की नजर होगी. 

शाम 5.30 बजे: दोनों पार्टियों के बीच बातचीत फेल होने के लिए शिवसेना 100 फीसदी जिम्मेदार है. उन्होंने बातचीत बंद की, गठबंधन अभी तक टूटा नहीं है, ऐसी कोई घोषणा दोनों पार्टियों ने नहीं की है. दोनों पार्टियां केंद्र में अभी भी एक हैं. 

शाम 5.15 बजे: देवेंद्र फडणवीस ने कहा- मेरे उद्धव जी ठाकरे से बेहद करीबी रिश्ते हैं और ये ऐसे ही रहेंगे. मैंने उन्हें कई बार कॉल किया लेकिन उन्होंने जवाब नहीं दिया.

शाम 5.10 बजे: देवेंद्र फडणवीस ने कहा- बालासाहेब ठाकरे जी हम सबके लिए आदरणीय थे. हमने उद्धव जी के खिलाफ भी कभी कुछ नहीं कहा पिछले पांच सालों में लेकिन पिछले 10 दिनों से जिस तरह के बयान बीजेपी यहां तक की मोदी जी के बारे में भी दिए गए हैं, यह बर्दाश्त के बाहर था. 

शाम 5.00 बजे: बड़ी दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि जिस दिन चुनाव के परिणाम आए उसी दिन उद्धव ठाकरे जी ने कहा था कि सरकार बनाने के सभी विकल्प खुले हैं, यह हमारे लिए काफी चौंकाने वाला था क्योंकि जनता ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के लिए वोट दिया था. 

 शाम 4.40 बजे: देवेंद्र फडणवीस ने कहा- मैंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है. 

शाम 4.30 बजे: महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फड़णवीस ने 21वें दिन अपना इस्तीफा दे दिया है. महाराष्ट्र में बीजेपी शिवसेना की तनातनी खत्म नहीं हुई, वहीं शिवसेना नेता संजय राउत एनसीपी चीफ शरद पवार से मिलने पहुंचे हैं. 

शाम 4.24 बजे: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस अन्य बीजेपी नेताओं के साथ राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी से मिलने राज भवन पहुंचे. यह नई तस्वीर आई है मुलाकात की जिसमें वो राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को एक पत्र सौंप रहे हैं. कयास लगाया जा रहा है कि ये देवेंद्र फड़णवीस कैबिनेट का इस्तीफा है. वैसे कुछ लोगों का कहना है कि ये नई सरकार के गठन के लिए विधायकों के समर्थन के साथ दावा भी हो सकता है. वहीं दूसरी तरफ शिवसेना के संजय राउत NCP त

शाम 4.00 बजे: शिवसेना के संजय राउत NCP चीफ शरद पवार से मिलने उनके घर पहुंचे

 

दोपहर 2.50 बजे: महाराष्ट्र में विधायकों की खरीद फरोख्त के डर से कांग्रेस ने अपने सभी 44 विधायकों को जयपुर भेज दिया है. राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस की ही सरकार है. वहीं शिवसेना ने भी अपने विधायकों का होटल बदल दिया है.

दोपहर 2.05 बजे: शिवसेना और भाजपा के बीच महाराष्ट्र में सत्ता के टकराव के बीच, वरिष्ठ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि वह राज्य के हित में दोनों दलों के बीच मध्यस्थता करने के लिए तैयार हैं और भाजपा द्वारा किसी भी व्यापार (विधायकों की खरीद) के आरोपों से इनकार किया है. गडकरी ने कहा, शिवसेना को सकारात्मक रूप से सोचना चाहिए.

दोपहर 1.50 बजे: राकांपा ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह महाराष्ट्र को राष्ट्रपति शासन की ओर धकेल रही है. एनसीपी के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने ट्विटर पर लिखा कि महाराष्ट्र को भाजपा राष्ट्रपति शासन की ओर धकेल रही है और मोदी और शाह जी की जोड़ी के जरिये दिल्ली से महाराष्ट्र की सत्ता की बागडोर चलाना चाहती है. यह महाराष्ट्र का अपमान जनता सहन नहीं करेगी. दिल्ली के तख्त के आगे महाराष्ट्र नही झुकता यह इतिहास है. जय महाराष्ट्र.

दोपहर 1.35 बजे: शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने कहा कि भाजपा को कार्यवाहक सरकार के प्रावधान का दुरुपयोग नहीं करना चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस को इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है.

दोपहर 1.20 बजे: शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने कहा कि भाजपा को हमसे तभी संपर्क करना चाहिए, जब वे शिवसेना के लिए मुख्यमंत्री पद के लिए सहमत हों. उन्होंने कहा, अगर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया जाता है, तो यह राज्य के लोगों का अपमान होगा.

दोपहर 1.05 बजे: कांग्रेस ने मुंबई में अपने नव-निर्वाचित विधायकों की बैठक बुलाई थी. पार्टी के सूत्रों के मुताबिक, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात और अन्य वरिष्ठ नेता बैठक में मौजूद रहे. उन्होंने कहा कि सभी 44 कांग्रेस विधायकों ने बैठक में भाग लिया, जिसमें महाराष्ट्र में मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की गई. अटकलें तेज हैं कि कांग्रेस विधायकों को जयपुर स्थानांतरित किया जा सकता है.

दोपहर 12.50 बजे: महाराष्ट्र कांग्रेस नेता नितिन राउत ने कहा, ऐसी खबरें थीं कि कुछ कांग्रेसी विधायकों को भाजपा नेताओं ने पैसे दिए थे. कल हमारे एक या दो विधायकों को लगभग 25 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी. हम कर्नाटक में शुरू हुए हॉर्स ट्रेडिंग पैटर्न को रोकने की पूरी कोशिश करेंगे.

दोपहर 12.35 बजे: महाराष्ट्र के वर्तमान मामले में, राष्ट्रपति शासन लागू करना अभी भी एक संभावना है. कानूनी विशेषज्ञों के अनुसार, राज्यपाल कोशियारी को ऐसी कोई सिफारिश करने से पहले सरकार के गठन के सभी विकल्पों और संभावनाओं को समाप्त करना होगा. उसे पहले सभी पक्षों के साथ परामर्श करना होगा कि क्या उनमें से कोई भी आवश्यक संख्याओं को एक साथ मिलाने की स्थिति में है या नहीं. उसके संतुष्ट होने के बाद ही की कोई पार्टी या गठबंधन एक स्थिर सरकार नहीं बना सकता है, जिसे वह राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करेगा.

दोपहर 12.20 बजे: 288 विधानसभा सीटों में से, भाजपा के पास सबसे अधिक 105 सीटें हैं, लेकिन वो कहीं भी 144 के आधे के निशान के पास नहीं है. शिवसेना के पास 56 सीटें हैं. एनसीपी और कांग्रेस के पास 54 और 44 सीटें हैं. भाजपा निर्दलीय और छोटे दलों के पास पहुंच रही है, फिर भी शिवसेना के समर्थन के बिना सरकार बनाने के लिए संख्या नहीं है. वहीं जब तक शिवसेना सीएम पद पर नजर गड़ाए हुए है, तब तक वह बीजेपी के बिना सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है, जब तक कि कांग्रेस और एनसीपी दोनों ही शिवसेना द्वारा गठित सरकार का समर्थन नहीं करते.

दोपहर 12.05 बजे: गुरुवार को, सीएम देवेंद्र फडणवीस और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के सामने विकल्पों की खोज की और निहितार्थ पर कानूनी और संवैधानिक विशेषज्ञों के साथ परामर्श भी किया. वर्तमान में, 15 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से, भाजपा 120 सदस्यों की संख्या तक पहुंची है. सरकार बनाने के 145 के आंकड़े तक पहुंचने के लिए अभी भी इसे 25 और चाहिए. इस बीच, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बीजेपी को धमकी दी है और कहा कि अगर वह शिवसेना के बिना सरकार बनाती है, तो यह भगवा गठबंधन का अंत होगा.

सुबह 11.50 बजे: विजय वादीतिवार, कांग्रेस और महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता ने कहा, हमने अपने विधायकों को कहीं नहीं भेजा, हमारे सभी विधायक अपने स्थानों पर हैं. यदि हमारे कुछ विधायक किसी भी स्थान पर गए हैं तो यह व्यक्तिगत यात्रा हो सकती है.

सुबह 11.35 बजे: शिवसेना के विधायकों ने गुरुवार को महाराष्ट्र में सरकार के गठन पर अंतिम निर्णय लेने के लिए पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे को अधिकृत करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया. मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच सत्ता का टकराव जारी है, महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल और वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार के साथ पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से देरी के कानूनी पहलुओं पर चर्चा करने के लिए मुलाकात की.

सुबह 11.20 बजे: महाराष्ट्र में बीजेपी सरकार का कार्यकाल आज खत्म हो रहा है. आज यदि राज्य में सरकार नहीं बनी तो राष्ट्रपति शासन लग जाएगा. इस पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, अगर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया जाता है, तो यह राज्य के लोगों का अपमान होगा.

सुबह 11.05 बजे: कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, सभी कांग्रेस विधायक एक साथ हैं. कोई भी विधायक पार्टी से नाता नहीं तोड़ेगा. पार्टी हाईकमान जो कहता है विधायक उसका पालन करेंगे. हम भाजपा को राज्य में सरकार बनाने की अनुमति नहीं देंगे. राकांपा हमारी सहयोगी है, वे हमारे साथ हैं. महाराष्ट्र को बचाने के लिए लोगों ने हमें वोट दिया है.

सुबह 10.50 बजे: महाराष्ट्र में आज बड़ा फैसला लिया जा सकता है. बीजेपी और शिवसेना सरकार बनाने के लिए एक फैसला ले सकती हैं. इसके लिए नितिन गडकरी नागपुर से मुंबई के लिए रवाना हो गए हैं.

Also read, ये भी पढ़ें: Shiv Sena Slams BJP Live Updates: उद्धव ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस के पास सिर्फ 48 घंटे बाकी, सरकार बनाएं नहीं तो राष्ट्रपति शासन, सीएम पद पर अड़ी शिवसेना, भाजपा बोली- मुख्यमंत्री हमारा होगा

Sharad Pawar on Maharashtra Govt Formation: एनसीपी चीफ शरद पवार का बड़ा बयान, बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहते हैं तो बीजेपी- शिवसेना मिलकर बनाए सरकार

Maharashtra Shiv Sena NCP Coalition: महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन से पहले शरद पवार की पार्टी एनसीपी ने रखी बीजेपी से गठबंधन तोड़ने की शर्त

Maharashtra Conflict BJP, Shiv Sena Congress NCP Latest Updates: महाराष्ट्र में सत्ता का पेंच उलझा, बीजेपी ने दिया नया ऑफर, शिवसेना मिलेगी राज्यपाल से, सोनिया गांधी और शरद पवार की आज होगी मुलाकात

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App