मुंबई. चुनाव आयोग ने आज दोपहर महाराष्ट्र के लिए विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है. महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव एक फेज में 21 अक्टूबर को होगा. चुनाव आयोग ने बताया कि 24 अक्टूबर को इसकी काउंटिंग होगी और उम्मीदवार अपने नॉमिनेशन 04 अक्टूबर तक दर्ज कर सकते हैं. बता दें कि आदर्श आचार संहिता, तारीखों की घोषणा के बाद लागू हो गई है, जिसका मतलब है कि वर्तमान राज्य सरकार कोई नई घोषणा नहीं कर सकेंगी या नई योजनाओं को लागू नहीं कर सकेंगी. चुनाव आयोग ने बताया कि महाराष्ट्र में 8.94 करोड़ मतदाता हैं. इस साल विधानसभा चुनाव के लिए 1.89 लाख ईवीएम का इस्तेमाल किया जाएगा. सभी उम्मीदवारों के लिए 28 लाख चुनावी खर्च निर्धारित किया गया है. चुनाव आयोग ने आदेश दिए हैं कि कोई भी उम्मीदवार चुनाव प्रचार के लिए प्लास्टिक का इस्तेमाल ना करे. चुनावी खर्च और अन्य कामों पर निगरानी के लिए पर्यवेक्षक रहेंगे. उम्मीदवारों को अपने नॉमिनेशन के दौरान हथियार जमा करवाने होंगे और अपराधिक जानकारी देनी होगी. अपराधिक जानकारी ना देने पर नॉमिनेशन रद्द हो सकता है. चुनाव आयोग सोशल मीडिया पर भी नजर रखेगा.

महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 8 नवंबर को समाप्त हो रहा है. महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों में बीजेपी के पास 122, शिवसेना के पास 63 सीट थीं. इस साल दोनों पार्टी एक साथ राज्य में चुनाव लड़ेंगी. कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने 2014 में 15 साल तक राज्य में सत्ता साझा करने के बाद अलग-अलग विधानसभा चुनाव लड़ा था. दोनों दलों ने सीट बंटवारे को लेकर असहमति के बाद अलग-अलग तरीके अपनाए थे. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 122 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी और शिवसेना, जिसने अलग-अलग लड़ाई लड़ी, ने 63 सीटें हासिल कीं.

कांग्रेस और राकांपा पहले ही अनौपचारिक रूप से सीट-बंटवारे के फार्मूले पर आ चुके हैं. कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने हाल ही में कहा कि कांग्रेस और एनसीपी लगभग 123-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी और छोटे सहयोगियों के लिए 41 सीटें छोड़ेंगी. उन्होंने कहा कि दोनों दलों के बीच आम सहमति के आधार पर सीटों की अदला-बदली हो सकती है. कांग्रेस ने अपनी पहली सूची को पहले ही अंतिम रूप दे दिया है जहां दो पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण और राज्य पार्टी प्रमुख बालासाहेब थोराट 104 की सूची में वरिष्ठ नेताओं में शामिल हैं. दूसरी ओर, भाजपा और शिवसेना अभी भी शिवसेना के साथ बातचीत कर रहे हैं. चुनाव लड़ने के लिए पहले परिवार से उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे को चुनाव मैदान में उतारने का फैसला किया.

कांग्रेस और एनसीपी दोनों पार्टियों से कई नेता सत्तारूढ़ बीजेपी-शिवसेना के साथ मिल गए हैं. पिछले हफ्ते, मराठा योद्धा राजा शिवाजी के वंशज और सत्यराज उदयनराजे भोसले से राकांपा के लोकसभा सदस्य और वरिष्ठ कांग्रेस नेता और राज्य के पूर्व मंत्री हर्षवर्धन पाटिल भाजपा में शामिल हो गए. अप्रैल-मई के लोकसभा चुनावों में, कांग्रेस केवल एक सीट और राकांपा चार पर रही. भाजपा ने 23 सीटें और उसके गठबंधन के साथी शिवसेना ने 18 सीटें जीतीं.

BJP in Assembly Elections 2019: विधानसभा चुनाव 2019 में बीजेपी नए चेहरों को देगी मौका, महाराष्ट्र-हरियाणा के लिए आज होंगी तारीख घोषित

Sharad Pawar on Maharashtra Assembly Elections: एनसीपी नेता शरद पवार का दावा- पुलवामा हमले जैसी घटना ही बदल सकती है महाराष्ट्र के लोगों का मूड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App