नई दिल्ली. मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे क्षेत्र में उम्दा स्वाद के लिए जाने वाला खास कड़कनाथ मुर्गा इन दिनों चर्चा में हैं. इसकी पीछे ये वजह है कि दोनों राज्यों के बीच में बहस छिड़ गई है. दोनों राज्य अपना अपना दावा पेश कर रहे हैं कि इस प्रजाति के मुर्गे के उनके क्षेत्र में होते हैं इन मुर्गों पर खास राज्य का दर्जा मिले. दोनों स्टेट ने जीआई टैग (ज्योग्राफिकल इंडिकेशंस) को लेकर आवेदन डाल दिए हैं.

इस कड़कनाथ मुर्गे को लेकर मध्य प्रदेश का कहना है कि ये खास तरह के मुर्गों की उत्पत्ति प्रदेश के झाबुआ जिले में हुई है. इसके विपरीत छत्तीसगढ़ काहदावा है कि कड़कनाथ को छत्तीसगढ़ के जिले दंतेवाड़ा खास तरह के पशुपालन किया जाता है. यहां उसका सरंक्षण और प्राकृतिक प्रजनन होता है. बता दें इन मुर्गों को लेकर विशेषज्ञों मानना है कि इस तरह के मुर्गे में काफी मात्रा में आयरन और प्रोटीन होता है जो शरीर के लिए काफी जरूरी होता है. इन मुर्गों में कलेस्ट्रॉल की मात्रा भी कम होती है. इस तरह के खास मुर्गों की दाम भी काफी ऊंचे होते हैं.

बता दें इससे पहले भी दो राज्य में इस तरह की अजीबोगरीब बहस होती रही है. बंगाल और उड़ीसा के बीच रोसोगुल्ला यानि रसगुल्ला की बहस छिड़ी थी. दोनों राज्यों की लंबे बहस के बाद इस जंग को बंगाल ने जीत लिया था. इस जंग को जीतने के बाद फूली नहीं समा रही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट किया था कि ‘हम सभी के लिए मीठी न्यूज है. हम काफी खुश हैं और इस बात पर गर्व है कि बंगाल को रोसोगुल्ला के लिए जीआई दर्जा मिल गया है.

पश्चिम बंगाल ने ओडिशा से जीती रसगुल्ले की जंग, ममता बनर्जी ने ट्वीट कर दी जानकारी

ओला-उबर ड्राइवरों की अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू, सोच समझ कर घर से निकलें

पूर्व PM मनमोहन सिंह पर बनने जा रही फिल्म में ये अभिनेत्री निभाएगी प्रियंका गांधी का किरदार!

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App