नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में लॉकडाउन की समय सीमा 3 मई तक बढ़ा दी. इसका मतलब है कि इस बार मुस्लिम समुदाय के लोग इस्लाम का पवित्र महीना रमजान अपने घरों में बिताएंगे, रोजे का इफ्तार भी वहीं करेंगे साथ ही ईद की नमाज भी घर में ही पढ़नी होगी. ऐसे में अगर बात आपकी सेहत की है जो इसमें कोई हर्ज भी नहीं. वैसे ही देश में कोरोना के करीब 10 हजार मामले सामने हैं. इसलिए अब सतर्कता में जरा सी चूक हमें गहरी खाई की ओर ले जा सकती है.

रमजान और ईद को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी भी मुस्लिम समुदाय के लोगों से घर में रहकर ही खुदा की इबादत करने के लिए कह चुके हैं. अप्रैल की 24 तारीख से रमजान का पवित्र महीना शुरू होगा जो 25 मई को होने वाले मुस्लिम त्योहार ईद उल फितर से ठीक पहले खत्म होगा.

रमजान का महीना मुस्लिम समुदाय के लोगों के लिए काफी अहम बताया गया है. कहा जाता है कि इस महीने खुदा की रहमत सीधा उसकी इबादत कर रहे लोगों पर बरसती है. रमजान में मुस्लिम समाज के लोग सुबह सूरज उगने से पहले रोजा यानी व्रत शुरू करते हैं जो शाम के समय इफ्तार के साथ खोला जाता है. इसी दौरान अल्लाह की इबादत की जाती है. घरों में कुरान पाक की तिलावत की जाती है.

Mercury Transit 2020 Pisces: बुध का मीन राशि में गोचर, क्या होगा राशियों पर असर, जानिए उपाय

Ramadan 2020 Date in India: रमजान का पवित्र महीना कब होगा शुरू, जानें तारीख और समय