नई दिल्ली.पाकिस्तान के साथ लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा से कुछ किलोमीटर की दूरी पर देश की वायुसेना ने आज इतिहास रच दिया। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने गुरुवार को भारतीय वायु सेना (IAF) के विमानों के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 925 पर सट्टा-गंधव खंड पर एक आपातकालीन लैंडिंग पट्टी का उद्घाटन किया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया भारतीय वायु सेना (IAF) के C-130 J सुपर हरक्यूलिस विमान में सवार होकर राजस्थान के बाड़मेर जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग पर प्रदर्शन के दौरान उतरे।

दो मंत्रियों और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत को लेकर IAF के हरक्यूलिस C-130J विमान ने गुरुवार को राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक मॉक इमरजेंसी लैंडिंग की। NH-925 भारत का पहला राष्ट्रीय राजमार्ग है जिसका उपयोग IAF विमानों की आपातकालीन लैंडिंग के लिए किया जाता है। दोनों मंत्रियों ने गुरुवार को NH-295 की आपातकालीन लैंडिंग सुविधा (ELF) पर कई विमानों के संचालन को भी देखा।

भारतीय वायु सेना ने कहा, “प्रदर्शन के दौरान उतरने वाला पहला विमान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के साथ सी-130जे सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान होगा।”

सुखोई-30एमकेआई फाइटर जेट ने भी दोनों मंत्रियों के सामने ईएलएफ पर मॉक इमरजेंसी लैंडिंग की। भारतीय वायुसेना का एएन-32 सैन्य परिवहन विमान और एमआई-17वी5 हेलीकॉप्टर भी सहायक सैन्य एयरबेस के रूप में कार्य करने के लिए अपनी पूर्ण परिचालन तत्परता दिखाते हुए, ईएलएफ पर उतरे।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने NH-925 के सट्टा-गंधव खंड के 3-किमी खंड को IAF के लिए ELF के रूप में विकसित किया है। अक्टूबर 2017 में, IAF के लड़ाकू जेट और परिवहन विमानों ने लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर मॉक लैंडिंग की थी ताकि यह दिखाया जा सके कि ऐसे राजमार्गों का उपयोग IAF विमानों द्वारा आपात स्थिति में लैंडिंग के लिए किया जा सकता है।

अधिकारियों ने पीटीआई को बताया कि बाड़मेर में एक के अलावा कुल 27 अन्य राजमार्गों का वर्तमान में भारतीय वायुसेना और एनएचएआई द्वारा संयुक्त रूप से अध्ययन किया जा रहा है ताकि यह देखा जा सके कि क्या उन पर आपातकालीन लैंडिंग स्ट्रिप्स विकसित की जा सकती हैं।

आपातकालीन लैंडिंग पट्टी, जिसका उद्घाटन गुरुवार को किया गया, भारतमाला परियोजना के तहत गगरिया-बखासर और सट्टा-गंधव खंड के नव विकसित टू-लेन पक्के कंधे का हिस्सा है, जिसकी कुल लंबाई 196.97 किमी है और इसकी लागत 765.52 करोड़ रुपये है। यह राजमार्ग परियोजना अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित बाड़मेर और जालोर जिलों के गांवों के बीच संपर्क में सुधार करेगी।

इस परियोजना के तहत कुंदनपुरा, सिंघानिया और बखासर गांवों में आईएएफ और भारतीय सेना की जरूरतों के मुताबिक आपातकालीन लैंडिंग स्ट्रिप के अलावा तीन हेलीपैड (प्रत्येक 100×30 मीटर आकार) का निर्माण किया गया है।

देश की पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा नेटवर्क को मजबूत करने के लिए ईएलएफ और तीन हेलीपैड विकसित किए गए हैं। सामान्य समय के दौरान, सड़क यातायात के सुचारू प्रवाह के लिए ELF का उपयोग किया जाएगा और IAF के लिए ELF के संचालन के दौरान, सड़क यातायात के सुचारू प्रवाह के लिए सर्विस रोड का उपयोग किया जाएगा।

ईएलएफ का निर्माण 19 महीनों में किया गया था। काम जुलाई 2019 में शुरू हुआ और जनवरी 2021 में पूरा हुआ। यह काम जीएचवी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा भारतीय वायुसेना और एनएचएआई की देखरेख में किया गया।

बता दें राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी दिल्ली से हरकुलिस से रवाना हुए थे और सुबह करीब 11 बजे इनका विमान अगड़वा-जालोर इमरजेंसी हवाई पट्टी पर उतरा। हवाई पट्टी पर एयरक्राफ्ट ऑपरेशन और फाइटर विमानों का फ्लाईपास्ट होगा। 

महज 19 महीनों में तैयार हुआ प्रोजेक्ट

बुधवार को वायुसेना ने इस हवाई पट्टी पर अपनी पहली रिहर्सल की। इस दौरान तीन फाइटर विमान उतारे। सबसे पहले हरक्यूलिस प्लेन को लैंड कराया गया। इसके बाद सुखोई, मिग और अगस्ता हेलिकॉप्टर की लैंडिंग कराई गई।  देश में यह पहली बार हुआ है जब किसी नेशनल हाइवे का इस्तेमाल भारतीय वायुसेना के विमानों की इमरजेंसी लैंडिंग के लिए किया जा रहा है। इस दौरान एसयू-30 एमकेआई, सुपर हरक्यूलिस एंड जगुआर फाइटर विमानों का फ्लाईपास्ट हुआ। इस प्रोजेक्ट को तैयार करने के लिए 24 महीने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन  इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का निर्माण 19 महीनों के भीतर ही कर लिया गया। जुलाई 2019 में इसकी शुरुआत की गई थी और इसी साल जनवरी में पूरा कर लिया गया। 

इसे भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत तैयार किया गया है। वायुसेना की इमरजेंसी लैंडिग के लिए तैयार किया गया है। यह युद्ध और इमरजेंसी में बेहद उपयोगी साबित होगा।  32.95 करोड़ रुपये की लागत से बनी यह हवाई पट्टी तीन किलोमीटर लंबी और 33 मीटर चौड़ी है। रक्षा और परिवहन मंत्रालय के सहयोग से देश में इस तरह के 12 हाईवे तैयार किए जा रहे हैं, जहां विमानों की लैंडिंग कराई जा सके। इससे पहले वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा कि भारतीय वायुसेना अगले दो दशक में 350 विमान खरीदने की योजना बना रही है। उन्होंने चीन और पाकिस्तान की चुनौतियों को देखते हुए भारतीय वायुसेना की समग्र ताकत को बढ़ाने के लिए विषम क्षमताओं को विकसित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

Namaz room Controversy: झारखंड विधानसभा का घेराव करने जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

New Govt in Afghanistan: : IC-814 तालिबान ने कंधार हाईजैक के साजिशकर्ता के बेटे को बनाया अफगानिस्तान का रक्षा मंत्री