रांचीः चारा घोटाले के एक केस में सीबीआई विशेष कोर्ट में बुधवार को पेश हुए अपने मजाकिया अंदाज के लिए प्रसिद्ध लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर अपने अंदाज से कोर्ट में मौजूद लोगों को हंसा दिया. लालू यादव ने सीबीआई जज शिवपाल सिंह से सवाल किया कि हम लोग संक्रांत में चूड़ा दही खाते थे, अब क्या करेंगे सर. लालू की इस बात जज ने भी मजेदार जवाब दिया. उन्होंने लालू से कहा कि हम यहीं व्यवस्था कर देंगे, कितना दही चाहिए. इस पर लालू ने कहा कि यह विभाग तो हम यादव लोगों का ही है सर, रिहा हो जाते आपको भी बुलाते, चूड़ा दही खिलाते आप हमलोग को रिहा करेंगे न सर तो तीन-चार दिन इधर जंगल में ही रह जाएंगे.

सुनवाई के दौरान लालू यादव और जज शिवपाल सिंह के बीच हुई बातचीत के दौरान कोर्ट रूम में कई बार ठहाके लगे. लालू ने जज से कहा कि जेल अधीक्षक सप्ताह में एक ही दिन किसी से मिलने देते हैं वह भी तीन व्यक्ति से ही मिल सकते हैं. जेल में मिलने वाला इंतजाम कीजिए न सर. जैसे आपका हुकुम हुआ तो हम लोग चले आए. खाना भी नहीं खाया सर. यहां तो हार्डकोर टाइप का रखा जाता है. जेल प्रशासन का रवैया हम लोगों के प्रति ठीक नहीं है. टार्चर किया जाता है. लालू की इस बात का जज ने जवाब दिया कि सिविल कोर्ट में कर दें क्या. मिलने के लिए कोर्ट में बुलाते हैं. जेल मैन्यूअल बदलने की पॉवर तो विधायिका का है. कानून वही बनाता है. लालू ने कहा कि नहीं सर कोर्ट में व्यवस्था नहीं है. जेल में ही सभी से मिलने दिया जाता. फिर लालू ने थोड़ी धीमी आवाज में कहा, यहां बुला-बुलाकर खबर देते रहिए.

बता दें कि लालू यादव चारा घोटाला के दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू यादव की पेशी हुई थी. लालू प्रसाद ने न्यायालय के समक्ष अपनी बातें रखी थी. इस दौरान लालू यादव अपने ही अंदाज में चुटीली बातें करते दिखे जो जज भी बड़े मजेदार तरीके से लालू का जवाब देते दिखे. चारा घोटाला मामले में शनिवार को लालू यादव को 3.5 साल कैद की सजा सुनाई थी साथ ही पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था.

यह भी पढ़ें- लालू यादव की सिफारिश के लिए जज को फोन करने वाले UP के IAS अधिकारियों के खिलाफ सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिए जांच के आदेश

लालू यादव चारा घोटाला केस: आरजेडी सुप्रीमो के खिलाफ पशुपालन घोटाला के तीसरे केस में 24 जनवरी को फैसला, मामला चाईबासा ट्रेजरी का

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App