Tuesday, July 5, 2022

लालू यादव-सीबीआई छापा: दिल्ली से बिहार तक लालू के 17 जगहों पर CBI की छापेमारी, जानिए पूरा मामला

पटना। सीबीआई ने शुक्रवार सुबह राजद अध्यक्ष लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी की बड़ी बेटी मीसा भारती और उनके परिवार से जुड़े 17 ठिकानों पर छापेमारी की। मामला रेलवे में नौकरी के बदले जमीन लेने का है जब लालू यादव रेल मंत्री थे। इस संबंध में सीबीआई जांच पहले से ही चल रही है और पहले भी छापेमारी की जा चुकी है।

सीबीआई अधिकारी सुबह साढ़े छह बजे पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचे थे। जानकारी के मुताबिक रेलवे भर्ती बोर्ड घोटाले में नए सबूत मिलने के बाद सीबीआई ने नया मामला दर्ज किया है।

वैसे सीबीआई अधिकारी सुबह 6.30 बजे से राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचे थे। लेकिन टीम को अंदर ही अंदर कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा। बाद में सीबीआई के और अधिकारी भी बारी-बारी से राबड़ी स्थित आवास पर पहुंचते रहे। सुबह करीब सवा नौ बजे राबड़ी के आवास पर एक महिला अधिकारी भी पहुंची। बताया जा रहा है कि ये अधिकारी राबड़ी आवास पर मौजूद महिलाओं से पूछताछ करेंगे।

खटाल की भी जांच कर रहे सीबीआई अफसर

बताया जा रहा है कि सीबीआई के अधिकारी भी खटाल की जांच कर रहे हैं। आरोप है कि रेलवे में नौकरी के एवज में लालू यादव ने लोगों से उनकी जमीन अपने नाम कर ली। यही बात खटाल की जमीन के बारे में भी कही जा रही है। यह छापेमारी ऐसे समय में हो रही है जब लालू यादव-राबड़ी देवी के छोटे बेटे तेजस्वी यादव पटना में नहीं हैं। वह दो दिन पहले लंदन के लिए रवाना हुए थे। लालू यादव खुद इस समय अपनी बड़ी बेटी और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती के दिल्ली स्थित आवास पर हैं। बताया जा रहा है कि यह छापेमारी पटना के अलावा बिहार के गोपालगंज, दिल्ली और भोपाल में भी चल रही है।

सीबीआई ने पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास 10, सर्कुलर रोड, पटना में छापेमारी की। सुबह सीबीआई अधिकारी जब यहां पहुंचे तो घर के लोग ठीक से उठ भी नहीं पाए थे। राबड़ी देवी के आवास में प्रवेश करते ही सीबीआई अधिकारियों ने दरवाजे बंद कर लिए। इसके बाद न तो किसी को अंदर से बाहर जाने दिया गया और न ही बाहर से किसी को।

छापेमारी शुरू होने के करीब एक घंटे बाद सीबीआई का एक अधिकारी राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचा। सीबीआई अधिकारियों को लेकर कम से कम तीन वाहन राबड़ी देवी के आवास के बाहर खड़े किए गए हैं, जिसमें झारखंड नंबर का एक वाहन भी शामिल है। इसके बाद भी यहां कुछ अधिकारी आते रहे।

राबड़ी देवी के आवास पर छापेमारी की खबर मिलते ही लालू समर्थक और राजद नेता-विधायक वहां पहुंचने लगे। यहां बढ़ती भीड़ को देखते हुए बैरिकेडिंग की जा रही है। घर के अंदर और बाहर पुलिस तैनात कर दी गई है। बताया जा रहा है कि लालू यादव के दो वकील भी मौके पर पहुंच गए हैं।

समर्थकों ने लगाए नारे

तेज प्रताप यादव के समर्थक राबड़ी देवी के आवास के बाहर इकट्ठा हुए, ‘कार्रवाई बंद करो’ का नारे लगा रहे हैं। इधर राबड़ी स्थित आवास पहुंचे लालू समर्थकों का कहना है कि यह बहुत पुराना मामला है और परेशान करने के लिए ही इस तरह की कार्रवाई की जा रही है।राजद समर्थकों का कहना है कि इस मामले में सीबीआई के पास कोई सबूत नहीं है।

पांच साल रहे थे रेल मंत्री

लालू यादव संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार में 2004 से 2009 तक रेल मंत्री थे। इस दौरान उन पर कई तरह के घोटालों में शामिल होने का आरोप लगा। सीबीआई पहले से ही इन मामलों की जांच कर रही है। इन मामलों में छापेमारी भी हो चुकी है।

महुआ के विधायक ने उठाए कार्रवाई पर सवाल

तेजस्वी यादव के करीबी महुआ से राजद विधायक मुकेश रोशन ने कहा कि यह परेशान करने के इरादे से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका मामले और सृजन घोटाले में क्या हुआ? कई सालों से सत्ता से बाहर रहने वालों के खिलाफ कार्रवाई क्यों की जा रही है?

यह भी पढ़ें :

यूपी: 27 महीने बाद जेल से रिहा हुए आजम खान, उन्हें लेने पहुंचे शिवपाल यादव

पिता निकला बेटे और बहू का हत्यारा, पकड़े जाने पर किया चौकाने वाला खुलासा

Latest news

Related news

<1-- taboola end -->