देहरादूनः उत्तराखंड राज्य के विश्व प्रसिद्ध चार धाम केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री की यात्रा इस माह शुरू हो रही है. हिंदुओं के लिए आस्था के केंद्र इस सभी मंदिरों के कपाट इस महीने खुल जाएंगे जिसके बाद अगले छह महीने तक श्रद्धालु हिमालय की सुंदर चोटियों के बीच बसे इन देव स्थलों के दर्शन का लाभ उठा पाएंगे. मंदिर प्रशासन की ओर से इन सभी मंदिरों के खुलने की तारीख और समय का ऐलान कर दिया गया है.

गंगोत्री मंदिर– उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में यह मंदिर मां गंगा को समर्पित है यहां से करीब 18 किलोमीटर ऊपर गंगा जी का उद्गम स्थल है गोमुख के नाम से जाना जाता है. इस मंदिर के कपाट अक्षय तृतीया के दिन यानी 18 अप्रैल को दिन में 1.15 मिनट पर भक्तों के लिए खोल दिए जाएंगे. मां के इस धाम तक पहुंचने के लिए आपको चढ़ाई नहीं करनी होती वाहन मंदिर तक पहुंच सकता है.

यमुनोत्री धाम– हिंदुओं की पावन नदियों में से एक यमुना जी का यह मंदिर भी उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित है. इस धाम के दरवाजे भक्तों को लिए 18 अप्रैल को दिन में 12.15 पर खोल दिए जाएंगे.

केदारनाथ मंदिर– भगवान शिव के बारह ज्योर्तिलिंगों में से एक श्री केदारनाथ मंदिर उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले में पड़ता है. भोलेनाथ के दर्शन के लिए बाबा के इस धाम के कपाट 29 अप्रैल को सुबह 6.15 मिनट पर खोले जाएंगे. भगवान भोलेशंकर के इस धाम में पहुंचने के लिए आपको हरिद्वार या ऋषिकेश वाहन तो मिल जाते हैं लेकिन वाहन केवल गौरीकुंड तक ही जाते हैं. यहां से करीब 21 किमी की चढ़ाई के बाद आप बाबा के धाम तक पहुंच पाएंगे.

बदरीनाथ धाम– जगत के पालनहार भगवान विष्णु को समर्पित यह मंदिर चमोली जिले में स्थित है. जिसके कपाट 30 अप्रैल को प्रातः 4.30 बजे खोले जाएंगे. सुंदर पहाड़ियों के बीच बसे नारायण के इस धाम में सीधे बस या अपने वाहन से पहुंचा जा सकता है. इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको कोई चढ़ाई नहीं करनी होती है. बदरीनाथ जाने के लिए आपको हरिद्वार या ऋषिकेश से बस मिल जाती है.

यह भी पढ़ें-तो इस वजह से देवों के देव महादेव शरीर पर लगाते हैं भस्म

Akshya Tritiya 2018: अक्षय तृतीया 2018 पर ऐसे करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, बरसेगी कृपा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App