नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस पर पंजाब,हरियाणा और उत्तरप्रदेश के किसान मिल कर राजधानी दिल्ली की सड़कों पर बड़ी संख्या में ट्रैक्टर रैली निकालने वाले हैं. जिसकी तैयारियां जोरों से चल रही है. इस बीच आज यानी गुरुवार को ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस और किसान संगठनों के बीच तीसरी बैठक हुई. इस दौरान दिल्ली पुलिस ने किसानों को केएमपी एक्सप्रेस वे पर छोटी रैली निकालने का ऑप्शन दिया गया. लेकिन किसानों ने दिल्ली पुलिस का यह ऑप्शन एक सिरे से ठुकरा दिया है और वो अब भी ट्रैक्टर रैली दिल्ली में निकालने के लिए अड़े हुए हैं. इस वजह से आज की बैठक से भी बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है.

बता दें दिल्ली पुलिस ने किसानों को दिल्ली के बाहर केएमपी (कुंडली-मानेसर-पलवल) और केजीपी (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल) राजमार्ग पर ट्रैक्टर परेड निकालने का सुझाव दिया था जिसे किसानों ने फिर खारिज कर दिया है और कहा है कि वो अंतिम निर्णय किसान संगठनों की बैठक में ही लेंगे. फिलहाल, हजारों ट्रैक्टर अलग-अलग इलाकों से दिल्ली के लिए कूच कर चुके हैं. इससे पहले मंगलवार को भी इस संबंध में हुई बैठक में किसानों ने पुलिस के प्रस्ताव को मानने से इन्कार कर दिया था. अब गुरुवार को हुई बैठक भी बेनीजन रही.

किसानों ने कहा कि वह जवानों का हौसला बढ़ाने के लिए परेड निकाल रहे हैं, इसमें किसानों ने झांकियां भी तैयार की हैं. इनका प्रदर्शन वह दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर करना चाहते हैं, हालांकि दिल्ली पुलिस ने उन्हें दिल्ली में घुसने से मना कर दिया है. इस पर किसानों ने पुलिस को भरोसा दिया है कि हम अपनी ट्रैक्टर रैली से कानून व्यवस्था को लेकर किसी भी तरह की परेशानी नहीं होने देंगे.

जानकारी के लिए बता दें कि गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली का मामला सुप्रीम कोर्ट ने पूरी तरह से दिल्ली पुलिस के हाथ में सौंप दिया है. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि ट्रैक्टर रैली पर दिल्ली पुलिस का अंतिम फैसला होगा.

Rahul Gandhi on Farmers Law: खेती को बर्बाद कर देंगे तीनों कृषि कानून, किसानों को मूर्ख नहीं बना सकते पीएम- राहुल गांधी

Bharat Band Farmer Protests: किसान बिल के खिलाफ देशभर में दिखा बंद का असर, मोदी सरकार के खिलाफ जमकर लगे नारे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर