नई दिल्ली : किसानों ने गणतंत्र दिवस पर कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकाल कर प्रदर्शन किया. इस दौरान दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों से किसानों और दिल्ली पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प के मामले सामने आए हैं. यहां तक कि इस दौरान प्रदर्शनकारी किसानों का उग्र रूप देखने को मिला वहीं पुलिस नें प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोले दागे. इसके बाद भी मामले ने तूल तब पकड़ा जब दिल्ली में कूच कर रहे किसानों ने लालकिले के परिसर में पहुंच कर किसान संगठन का झांडा लहरा दिया. वहीं अब इस मामले को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान सामने आया है. उनका कहना है कि राजनीतिक पार्टियों के लोग किसान आंदोलन में शामिल होकर गड़बड़ी कर रहे हैं.

वहीं इससे पहले स्वराज इंडिया पार्टी के संस्थापक योगेंद्र यादव ने कहा था कि दिल्ली में तीन चार जगहों पर मुझे हिंसा की अभी ख़बर आयी है. पूरी सूचना नहीं है. मैं यहाँ शाहजहाँपुर बॉर्डर पर परेड को लीड कर रहा हूँ. तीन-चार जगहों पर बैरिकेड तोड़ने की ख़बर आयी है मैं लोगों से अपील करता हूँ कि वह जो रूट तय हुआ है उसी पर जाए .जहाँ तक हिंसा की बात है मैंने पहले ही कह दिया था कि सिंघु बॉर्डर पार जो लोग हैं वो हमारे संगठन का हिस्सा नहीं है वह इस तरह की शरारत कर सकते हैं.

बता दें कि प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच आईटीओ पर काफी हंगामा हुआ. जिसके बाद प्रदर्शकारी लालकिले के परिसर तर पहुंच गए. फिलहाल दिल्ली पुलिस के साथ अब रैपिड एक्शन फोर्स ने भी मोर्चा संभाल लिया है. वहीं आईटीओ के पास पूरे चौक पर सैकड़ों की संख्या में किसान ट्रैक्टर लेकर खड़े हुए हैं. गौरतलब है कि केंद्र के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का यह आंदोलन पिछले दो महीनों से चल रहा है.

kisan Andolan Tractor Rally Update: आज रात 12 बजे तक सिंघु, गाजीपुर, टीकरी बॉर्डर, समेत दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में इंटरनेट सर्विस बंद, गृह मंत्रालय ने लिया फैसला

kisan Andolan Tractor Rally Update: ट्रैक्टर पलटने से एक किसान की मौत, डीडीयू मार्ग पर हुआ हादसा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर