नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शनकारी किसानों ने राजधानी दिल्ली में खूब हुड़दंग मचाया और हिंसा की जिसके चलते 300 से अधिक पुलिसकर्मी बुरी तरह घायल हो गए हैं. वहीं अब इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 200 लोगों को हिरासत में ले लिया है. साथ ही अलीपुर थाने में योगेंद्र यादव सहित सात किसान नेताओं के खिलाफ सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने और महामारी अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. जल्द ही उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा. गौरतलब है कि अब तक इस मामले में 22 एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं.

लाल किले में हुई हिंसा के दौरान गंभीर रूप से घायल हुए दिल्ली पुलिस के वजीराबाद थाने के एसएचओ पीसी यादव ने बताया कि हम लाल किले में तैनात थे जब कई लोग वहां घुस गए. हमने उन्हें किले की प्राचीर से हटाने की कोशिश की, लेकिन वे आक्रामक हो गए. हम किसानों के खिलाफ बल प्रयोग नहीं करना चाहते थे, इसलिए हमने यथासंभव संयम बरता. इसके बाद भी वो नहीं रुके. वहीं दिल्ली पुलिस आज शाम 4 बजे प्रेस वार्ता करेगी और कल किसान रैली के दौरान हिंसा के संबंध में सभी सवालों का जवाब देगी.

बता दें कि कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले दो महीनों से दिल्ली की सीमाओं पर पंजाब, हरियाणा के किसान धरना दिए बैठे हुए हैं. 26 जनवरी को दिल्ली की सड़कों पर किसानों ने शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर रैली निकालने का एलान किया हुआ था. लेकिन गणतंत्र दिवस पर सुबह से ही दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों से हिंसा की खबरे आनी शुरू हो गई. जिसे रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने हर संभव प्रयास किए लेकेन प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली में कूच करते हुए लालकिले पर अपना तिरंगा लहरा दिया और पुलिस के साथ मारपीट भी की. इसके अलावा ऐसा उत्पात मचाया जिसकी कोई उम्मीद नहीं कर रहा था.

Kisan Andolan Tractor Rally: जानिए कौन है गैंगस्टर लक्खा सिधाना? दिल्ली हिंसा में आया नाम

Kisan Andolan Tractor Rally: जानिए कौन हैं लाल किले पर झंडा फहराने वाले दीप सिद्धू, बीजेपी और दीप सिद्धू का क्या है कनेक्शन?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर