नई दिल्ली. कठुआ गैंगरेप मामले में कथित तौर पर आरोपियों का समर्थन करने वाले जम्मू-कश्मीर सरकार के दोनों मंत्रियों का बीजेपी महासचिव राम माधव ने बचाव किया है. राम माधव ने कहा है कि दोनों ही नेता वहां भीड़ को समझाने गए थे लेकिन इसका गलत मतलब निकाला गया. जानकारी के लिए बता दें कि रेप आरोपियों का समर्थन करने के आरोप में इन दोनों ही मंत्रियों ने अपना इस्तीफा सौंप दिया है.

राम माधव ने इस मामले पर बात करते हुए कहा कि 1 मार्च को कठुआ में भारी तादात में लोग इकट्ठा हो गए थे और ये दोनों ही मंत्री भीड़ को शांत कराने के लिए पहुंचे थे. लेकिन इसे गलत समझ लिया गया. उनका उद्देश्य जांच को प्रभावित करना नहीं था. इन लोगों पर प्रो-रेपिस्ट होने का जो आरोप लग रहा है वो सरासर गलत है.

उन्होंने अपनी बात रखते हुए आगे कहा कि कठुआ गैंगरेप केस ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. पुलिस ने जनवरी में जांच शुरू की थी और इसे पूरा करने में तीन महीने का समय लग गया. इस मामले में चार्जशीट फाइल कर दी गई है. सबूत मिटाने में शामिल पुलिस वाले के साथ साथ कुल 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए राम माधव ने कहा कि कांग्रेस ने इस मुद्दे को राजनीतिक बनाने का प्रयास किया. उससे माहौल खराब हुआ. बहुत बड़ी घटना हुई है.  इस मामले पर राजनीति न हो. लड़की की जान गई है वह तो नहीं आएगी. सभी को पूरा न्याय मिलेगा. धारणा बनाने का प्रयास हुआ कि जांच को प्रभावित करने का प्रयास हुआ जो बिल्कुल गलत है.

कठुआ गैंगरेप के खिलाफ स्वरा भास्कर ने मेकअप कर क्यों उठाई आवाज, यूजर के इस सवाल का एक्ट्रेस ने दिया जवाब

उन्नाव-कठुआ गैंगरेप पर फूटा केरल के मुसलमानों का गुस्सा, BJP ऑफिस के बाहर की पत्थरबाजी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App