नई दिल्ली. देश को झकझोर देने वाले कठुआ गैंगरेप की जिला अदालत में सुनवाई हुई. इस मामले को लेकर आरोपियों को अदालत में पेश किया गया और उनका नार्को टेस्ट कराने की मांग की गई. अब इस मामले की अगली सुनवाई 28 अप्रैल को होगी. वहीं, पीड़िता के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर इस केस को जम्मू-कश्मीर से बाहर ट्रांसफर करने की मांग की है.

बताया जा रहा है कि याचिका में इस केस को कठुआ से चंडीगढ़ ट्रांसफर करने की मांग की गई है. पीड़िता के पिता का कहना है कि अगर केस कठुआ में चला तो केस का ट्रायल सही से नहीं होगा. इसके साथ ही याचिका में ये भी कहा गया है कि जब तक ये केस राज्य के बाहर ट्रांसफर न हो जाए तब तक इस मामले की जांच को भी आगे न बढ़ाया जाए.

इसके साथ ही याचिका में नेताओं को नाबालिग आरोपी से न मिलने की मांग भी की गई है. याचिका में कहा गया है कि कठुआ की अदालत तब तक इस मामले की सुनवाई न करे जब तक सुप्रीम कोर्ट केस ट्रांसफर को लेकर दाखिल याचिका पर अपना फैसला न सुना दे. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट आज इस मामले की सुनवाई करेगा.

वहीं दूसरी तरफ इस मामले के मुख्य आरोपी सांझी राम की बेटी ने इस घटना को एक षणयंत्र करार दिया है. उसने कहा कि वो बच्ची कोई हिंदू-मुसलमान की बच्ची नहीं थी. उस बच्ची के साथ कोई दुष्कर्म नहीं हुआ है, उसका मर्डर हुआ है. उस मर्डर की छानबीन सीबीआई करे, तभी यह केस हल होगा नहीं तो निर्दोष ही फंसेंगे.

कठुआ गैंगरेपः पीड़िता की वकील दीपिका सिंह राजावत ने कहा- मेरा बलात्कार या हत्या हो सकती है

कठुआ रेप केस: मुख्य आरोपी सांजी राम के परिवार का बयान, दोषी पाए जाने पर सामूहिक फांसी दे दो

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App