नई दिल्ली. Karnataka Disqualified MLA Supreme Court Verdict : सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के 17 बागी विधायकों को बड़ी राहत दी है. कर्नाटक के कांग्रेस और जेडीएस के इन विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष के रमेश कुमार ने अयोग्य ठहरा दिया था और 2023 तक चुनाव लड़ने से रोक लगा दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा अध्यक्ष के अयोग्य ठहराने के फैसले को तो सही ठहराया लेकिन साथ ही यह भी कहा कि वो यह तय नहीं कर सकते कि विधायक कब तक चुनाव नहीं लड़ सकता. इस के साथ ही इन बागी विधायकों के उप चुनाव लड़ने का रास्ता साफ हो गया है. 

 गौरतलब है कि सर्वोच्य न्यायलय ने 25 अक्टूबर को कांग्रेस के 14 विधायकों और जेडीएस के 3 विधायकों द्वारा दायर याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. कर्नाटका के 17 विधायकों के इस्तीफा के बाद तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेंश कुमार ने उन्हें विधानसभा के शेष कार्यकाल के सदस्य होने से अयोग्य घोषित कर दिया था. इन 17 विधायकों के बागी हो जाने के वजह से जुलाई में जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन की सरकार गिर गई थी.

कर्नाटक के 17 अयोग्य करार दिए विधायकों के याचिका पर सुनवाई के दौरान चुनाव अयोग्य ने उपचुनावों को 21 अक्टूबर से 5 दिसंबर तक स्थगित करने पर सहमति व्यक्त किया था. देश के शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह किसी भी अंतरिम आदेश को पारित करने के बजाए मामले को पूरी तरह से तय करना चाहती है.

Also read- RRB Group D Admit Card 2019: आरआरबी ग्रुप डी एग्जाम एडमिट कार्ड इस दिन होगा जारी, जानें पूरी डिटेल्स www.rrbcdg.gov.in

Maharashtra Assembly Muktainagar Seat Results 2019: महाराष्ट्र विधानसभा की मुक्ताईनगर सीट से निर्दलीय प्रत्याशी चंद्रकांत पाटिल ने बीजेपी की रोहिणी एकनाथराव खडसे को हराया

सुप्रीम कोर्ट ने तत्कालीन कर्नाटक के विधानसभा अध्यक्ष द्धारा अयोग्य ठहराए गए विधायकों की याचिका पर अपना आदेश 25 अक्टूबर को सुरक्षित रख लिया था. दूसरी ओर, शीर्ष अदालत के फैसले से पहले आज कर्नाटक में बीजेपी के कोर कमेटी की बैठक होगी, कहा जा रहा है कि इस कोर कमेटी के बैठक में कर्नाटक के मौजूदा सीएम येदियुरप्पा भी शामिल होंगे.

कर्नाटक से सुप्रीम कोर्ट फैसले पर पहली प्रतिक्रिया आ गई है, विधायक एएच विश्वनाथ ने  तत्कालीन स्पीकर के द्धारा अयोग्य करार दिए गए विधायकों पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. सुप्रीम कोर्ट ने 2023 तक चुनाव नहीं लड़ने की फैसले को रद्ध कर दिया है और इनकी इस सदन में अयोग्यता को बरकार रखा है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर विधायक एएच विश्वनाथ ने कहा कि हम खुश है और हमें उपचुनाव लड़ने की अनुमती मिल गई है.

कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धरमैया ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. सुप्रीम कोर्ट ने 17 बागी विधायकों को उप चुनाव लड़ने की अनुमती दे दी है. इसके साथ ही सिद्धरमैया ने कहा है अपने ट्वीट में कि यह फैसला एक सबक भी है विधायकों के लिए.

सुप्रीम कोर्ट के 17 बागी विधायकों के याचिका पर दी गई फैसले के बाद, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक के बाद लगातार 4 ट्वीट करके बीजेपी को घेरने की कोशिश की है. 

बता दें कि कर्नाटक में सतारूढ़ कांग्रेस और जेडीएस सरकार के 15 बागी विधायक ने अपना इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए थे. इसके बाद मुख्यमंत्री एचडी कुमारास्वामी के नेतृत्व वाली 14 महीने की पुरानी गठबंधन की सरकार गिर गई थी. इसके बाद कर्नाटक के तत्कालीन विधानसभा स्पीकर ने केआर रमेश ने विधानसभा में विश्वास मत से एक दिन पहले 17 बागी विधायकों अयोग्य घोषित कर दिया था. विधानसभा के स्पीकर के फैसले के खिलाफ बागी विधायकों ने अपनी अयोग्यता को समाप्त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. 

Also read- 7th Pay Commission Latest News: सातवें वेतनमान के तहत न्यूनतम वेतन में बढ़ोतरी को लेकर केंद्रीय कर्मचारियों को करना पड़ सकता है इंतजार, मोदी सरकार कर रही है विचार

Jharkhand Assembly Election 2019: झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले एनडीए में फूट, आजसू ने बीजेपी के सामने उतारे प्रत्याशी

Aam Aadmi Party Gets Less Votes Then NOTA: आम आदमी पार्टी को मिले हरियाणा, महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में नोटा से कम वोट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App