नई दिल्ली. कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी की सरकार मुश्किल में नहीं है, लगातार मीडिया में आ रही खबरों का खंडन खुद कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने किया. इन्होंने कहा कि कांग्रेस के जिन तीन मंत्रियों के ना मिलने की अफवाहें उड़ाई जा रही हैं वो लगातार उनके संपर्क में हैं. वो इस वक्त मुंबई में हैं और उसके मुलाकात के बाद वो मुंबई के लिए रवाना हुए हैं. कुमारस्वामी ने कहा कि मेरी सरकार खतरें में नहीं है. मीडिया को इतनी चिंता क्यों सता रही है.

तो वहीं कांग्रेस के तीन विधायकों के साथ बीजेपी नेताओं के संपर्क में रहने की लगातार आ रही खबरों पर कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदीयुरप्पा ने विराम लगाते हुए कहा है कि इन बातों में कोई सच्चाई नहीं है. ये कांग्रेस और जेडी (एस) के आपस का मामला है. हम उनके किसी विधायक से संपर्क में नहीं हैं. हम अपने विधायकों के काम पर फोकस कर रहे हैं.

हलांकि इससे पहले रविवार को कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार ने बीजेपी के ऑपरेशन लोटस का जिक्र करते हुए कहा था कि एक बार फिर से बीजेपी की तरफ से सरकार गिराने की कोशिश की जा रही है. इस वक्त कांग्रेस के तीन एमएलए मुंबई के एक होटल में बीजेपी के कुछ नेताओं के साथ मौजूद हैं. एक बार फिर से बीजेपी विधायकों के खरीद-फरोख्त की कोशिशों में जुटी है. डीके शिवकुमार ने कहा कि सरकार को पता है कि उन्हें खरीदने की कोशिश की जा रही है और उन्हें क्या रकम ऑफर की जा रही है. ऑपरेशन लोटस के तहत प्रदेश में बीजेपी लगातार जेडी(एस)-कांग्रेस गठबंधन की सरकार को गिराने की कोशिशों में है और लगातार उनके तरफ से विधायकों को खरीदने की कोशिशें चल रही है. इसी कड़ी में इस वक्त मुंबई में मौजूद कर्नाटक सरकार के तीन विधायको के साथ बीजेपी के कुछ नेता मौजूद हैं.
डीके कुमार जो पार्टी के ट्रवल शूटर माने जाते हैं . डीके कुमार ने इस स्थिति के लिए कुमारस्वामी का बीजेपी के लिए लचर रवैये को जिम्मेदार बताया. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को सारी बातें खुलकर सबके सामने रखनी चाहिए. मंत्री ने ये भी कहा था की पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और कांग्रेस कांग्रेस स्टेट प्रेसिडेंट दिनेश गुंडी राव को भी इस बात की जानकारी पहले से है.

हलांकि सूत्रों की मानें तो कर्नाटक बीजेपी ने अभी तक राज्य की सत्ता हाथ से जाने की हार नहीं मानी है. राज्य बीजेपी के अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा के एक करीबी सूत्र के मुताबिक वह पार्टी नेतृत्व को इस बात का विश्वास दिलाने की कोशिश कर रहे हैं कि अगर गठबंधन सरकार गिरकर राज्य में मध्यावधि चुनाव और आम चुनाव एक साथ होते हैं, तो पार्टी जीत सकती है. हालांकि, आंकड़ों को देख ऐसा मुश्किल लगता है. इस बीच कांग्रेस के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि बीजेपी कर्नाटक में कांग्रेस को सरकार को परेशान कर रही है और हमारे विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है, जिसमें वह कभी सफल नहीं होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App