नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद कांग्रेस पार्टी के भीतर ही विरोध की आवाज मुखर हो रही है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कांग्रेस केंद्रीय नेतृत्व को टार्गेट करते हुए कहा कि पिछले 6 सालों में किसी ने आत्मविश्लेषण नहीं किया. लीडरशिप पर सवाल खड़ा करते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि बिहार चुनाव के परिणाम सामने आने के बाद पार्टी का कोई रूख सामने नहीं आया, ऐसा लगता है जैसे पार्टी में सब कुछ ठीक है.

गुजरात, मध्य प्रदेश, बिहार समेत अलग-अलग राज्यों में हुए चुनाव और उपचुनाव के परिणाम पर कपिल सिब्बल ने कहा कि अब लोग कांग्रेस को विकल्प नहीं मानते. उन्होंने कहा कि इन उपचुनावों का यही निष्कर्ष है. उन्होंने कहा कि बिहार में आरजेडी ही विकल्प थी वहीं गुजरात के सभी उप चुनावों में हम हार गए. तीन उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. लोकसभा में भी गुजरात से एक भी सीट कांग्रेस को नहीं मिली. वहीं यूपी में कांग्रेस के कुछ उम्मीदवारों को दो फीसदी से भी कम वोट मिले. उन्होंने कहा कि मेरे साथी जो सीडब्ल्यू सी का हिस्सा है मुझे उम्मीद है वो आत्म विश्लेषण करेंगे.

इंटरव्यू में कपिल सिब्बल से पूछा गया कि क्या पार्टी लीडरशिप बिहार हार को एक और हार की तरह देख रही है, तो उन्होंने कहा कि ‘मुझे नहीं मालूम. मैं यहां सिर्फ अपने बारे में बात कर रहा हूं. मैंने लीडरशिप को मुझे कुछ भी बताते हुए नहीं सुना. इसलिए, मुझे नहीं मालूम. मुझे बस लीडरशिप के आसपास वाली आवाजें ही सुनाई देती हैं. हमें अभी भी कांग्रेस पार्टी से बिहार चुनाव और उप-चुनाव में हालिया प्रदर्शन पर उनकी राय का इंतजार है. सिब्बल ने कहा, ”यह भी हो सकता है कि वे सोचते हों कि सबकुछ ठीक है और इसे हमेशा की तरह लेते हों.’

Bihar cabinet Expension: नीतीश कैबिनेट में बीजेपी और जेडीयू कोटे से होंगे 7-7 मंत्री, बीजेपी के खाते में दो डिप्टी सीएम

Bihar Election Analysis: बार-बार गलतियां खत्म कर देंगी कांग्रेस को !

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर