नई दिल्ली. कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह के बाद एक बाद फिर 2019 लोकसभा चुनावों से पहले एक मंच पर महागठबंधन के नेताओं की झलक देखने को मिल सकती है. मध्य प्रदेश में कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही हैं. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने शपथ ग्रहण समारोह के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है. अखिलेश ने राज्य में कांग्रेस सरकार को समर्थन दिया है.

हालांकि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने अब तक न्योते पर कोई जवाब नहीं दिया है. उन्होंने भी राज्य में कांग्रेस सरकार को समर्थन दिया है. मायावती और अखिलेश विधानसभा चुनावों के नतीजे से एक दिन पहले हुई विपक्ष की बैठक में भी शामिल नहीं हुए थे. दोनों नेता 2019 के लोकसभा चुनावों में यूपी में सीट शेयरिंग को लेकर नाखुश हैं.

कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में केरल के मुख्यमंत्री और सीपीआई (एम) नेता पिनरई विजयन, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी और टीएमसी के वरिष्ठ नेता दिनेश त्रिवेदी शामिल होंगे. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन भी समारोह में शामिल हो सकते हैं. 

कांग्रेस ने बीजेपी को पटखनी देते हुए हिंदी पट्टी के तीनों राज्य छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान की सत्ता फिर से हासिल कर ली है. मध्य प्रदेश में 29 लोकसभा सीट हैं. कांग्रेस को मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान 114 सीट मिली थी. बहुमत का आंकड़ा छूने के लिए उसे 116 का आंकड़ा चाहिए था. 4 निर्दलीयों के अलावा, सपा के 1 और बीएसपी के 2 विधायकों का भी उसे समर्थन हासिल हो गया है. कमलनाथ 17 दिसंबर को भोपाल में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

Kamalnath Oath as CM: भोपाल में कमलनाथ 17 दिसंबर को लेंगे मध्य प्रदेश के सीएम पद की शपथ

Rahul Gandhi on Farmers Loan: मुख्यमंत्रियों के शपथ ग्रहण से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का ऐलान- राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में होगा किसानों का कर्जा माफ

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App