पटना: दलित व्यक्ति की शिकायत पर राजस्थान के बारमेड से स्थानीय अखबार में काम करने वाले एक पत्रकार को गिरफ्तार कर पटना लाया गया है. पत्रकार का आरोप है कि बिहार के नवनियुक्त राज्यपाल सत्यपाल मलिक से बीजेपी की एक स्थानीय नेता प्रियंका चौधरी से संबंधो को फेसबुक पर लिखने की वजह से उन्हें इस मामले में फसाया जा रहा है.

वहीं राज्यपाल के करीबी सूत्रों के मुताबिक उन्हें इस मामले में जबरदस्ती घसीटा जा रहा है. उनका इस विवाद से कोई लेना-देना नहीं है. उनका ये भी कहना है कि वो प्रियंका चौधरी के कहने पर सिर्फ दो बार बारमेड गई है.

वहीं दूसरी तरफ नालंदा के रहने वाले दिहाड़ी मजदूर राकेश पासवान की शिकायत पर पुलिस ने दुर्ग सिंह को गिरफ्तार किया है उस लेबर का कहना है कि उसने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है और उसे बेकार में इस मामले में ना घसीटा जाए.

पुलिस अब इस मामले में बगले झांक रही है. पटना पुलिस का कहना है कि वो इस मामले की गहराई से जांच कर रही है, पुलिस अधिकारी नायर हसन खान के मुताबिक पुलिस का इस मामले में कोई हाथ नहीं है क्योंकि पीड़ित ने कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई थी और गिरफ्तारी के आर्डर भी कोर्ट से ही जारी हुए थे.

पढ़ें- भारत माता की जय और जय हिंद बोलने को लेकर कश्मीर में फारुख अब्दुल्ला के साथ बदसलूकी, उछाला जूता

अटल बिहारी वाजपेयी को देरी से श्रद्धांजलि देने पर सोशल मीडिया ने लिए सलमान के मजे, कहा- टाइगर सो रहा था

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App