नई दिल्ली: जेएनयू कल्चर के अनुसार 14 सितंबर को होने वाले छात्रसंघ चुनाव से पहले बुधवार रात प्रेसिडेंशिल डिबेट का आयोजन किया गया था. डिबेट रात 9 बजे से शुरु हुई जिसमें अध्यक्ष पद पर लड़ने वाले उम्मीदवारों ने अपने-अपने मुद्दे छात्रों के सामने रखे. इसके बाद प्रत्याशियों ने बारी-बारी से एक-दूसरे से सवाल-जवाब किया. डिबेट के अंत में छात्रों की तरफ से भी पूछे गए सवालों का उम्मीदवारों ने जवाब दिया. AISA की ओर से के.एन. साईं बालाजी, ABVP की तरफ से ललित पांडे, NSUI की ओर से विकास यादव, बापसा की ओर से थालापल्ली प्रवीण और RJD की ओर से जयंत जिज्ञासु अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हैं. निधि मिश्रा, जाहु कुमार हीर, साइब बिल्लावल निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं. सभी प्रत्याशियों ने छात्रों के समक्ष पूरे दमखम से अपनी बात रखी.

बताते चलें कि इस डिबेट में अपनी बात रखते समय ही यह माना जाता है कि अध्यक्ष पद के उम्मीदवार की जीत तय हो जाती है. जो जितना दमदार भाषण देता है उसके जीतने की संभावना उतनी ही बढ़ जाती है. हर कैंडिडेट को अपने विचार छात्रों के सामने रखने के लिए निश्चित समय दिया जाता है. इस दौरान वो पूरी शालीनता के साथ अपनी बात रखता है वहीं दर्शक दीर्घा में बैठे छात्र भी पूरी तमीज के साथ आलोजना करते हैं फिर चाहे वो ढपली बजाना हो या नारे लगाकर हूटिंग करना हो.

गौरतलब है कि इस बार चार संगठन वाम एकता के तहत मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं. इनमें आइसा, डीएसएफ, एसएफआई और एआईएसएफ शामिल है. चारों संगठनों ने मिलकर आइसा के के.एन. साईं बालाजी को अध्यक्ष पद के उम्मीदवार के तौर पर उतारा है. बीती रात हुई प्रेसिडेंशियल डिबेट में सीट कट, कंप्लसरी अटेंडेंस, GSCASH, रिजर्वेशन पॉलिसी जैसे मुद्दे छात्र नेताओं के भाषण में अहम रहे.

बताते चलें कि एबीवीपी की तरफ से ललित पांडे को अध्यक्ष पद पर उतारा गया है. एनएसयूआई ने अध्यक्ष पद के लिए विकास यादव का नाम घोषित किया है. बापसा ने अध्यक्ष पद के प्रत्याशी के तौर पर थालापल्ली प्रवीण को उतारा है. वहीं राजद की ओर से अध्यक्ष पद पर जयंत जिज्ञासु चुनाव मैदान मे हैं. इसके अलावा तीन और निर्दलीय उम्मीदवार अध्यक्ष पद के लिए मैदान में हैं जिनका नाम है जाहु कुमार हीर, साइब बिल्लावल और निधि मिश्रा.

JNUSU Elections 2018 Presidential debate Live Updates: 

Highlights

राइट की बेशर्मी और लेफ्ट की हिपोक्रेसी के खिलाफ राजद विकल्प: जयंत

जयंत ने भी कहा कि जिसने पूस की रात कभी देखी ही नहीं वो हलकों का दर्द क्या जाने? लेफ्ट और राइट दोनों पर एक साथ हमला करते हुए उन्होंने कहा कि छात्र राजद आज इसलिए चुनाव में खड़ा है क्योंकि उसे मालूम है कि लेफ्ट-राइट की बाइनरी के बीच जिस तरह से राइट विंग की बेशर्मी और लेफ्ट विंग की हिपोक्रेसी इस कैंपस को बर्बाद करने में लगी है उसके खिलाफ लड़ने की जरूरत है और एक विकल्प के रूप में हम खड़े हैं.

जेएनयू प्रेसिडेंशिलयल डिबेट में खूब गरजे जयंत

छात्र राजद उम्मीदवार जयंत कुमार ने सरकार पर तंज सकते हुए कहा कि 'देश में ऐसी सरकार है जो मेहुल चौकसी, नीरव मोदी जैसे लोगों को भगाने का काम करती है और पंजाब नेशनल बैंक चीख-चीखकर कह रहा है कि मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास पड़ा है.. मेरा वो सामान लौटा दो.'

संघर्ष में नहीं बल्कि आंदोलन हाईजैक करने के लिए सामने आती है लेफ्ट: विकास यादव, NSUI

विकास ने कहा कि जेएनयूएसयू पिछले पांच साल से लगातार पावर में है और कहते हैं कि साथी हम संघर्ष करेंगे. उन्होंने कहा कि बीजेपी की तरह ये भी जुमले देते हैं. विकास ने ये भी कहा कि बढ़े हुए अटेंडेंस के मुद्दे पर जब वो लोग कैंपस में खुले आसमान के नीचे अपना आंदोलन कर रहे थे उस दौरान जेएनयूएसयू का एक भी पदाधिकारी उनका साथ देने नहीं आया और बाद में आंदोलन को हाईजैक करने पहुंच गए.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App