JNU Left Unity ABVP Clash Highlights: दिल्ली में जनवरी की सर्द शाम थी, देश की सबसे प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी जवाहर लाल यूनिवर्सिटी के कई हॉस्टल्स में से एक साबमती हॉस्टल में कुछ नकाबपोश हाथों में लाठी, रॉड, धारदार हथियार लिए घुसते हैं और एक-एक करके छात्र और छात्राओं को पीटते हैं. इस घटना में करीब 20 छात्र-छात्राएं घायल हुए हैं और उनमें जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आईशी घोष के साथ बीजेपी स्टूडेंट विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद यानी एबीवीपी के स्टूडेंट भी शामिल हैं. इस वाकये में सबसे बड़ी बात ये हुई कि पुलिस की भूमिका एक बार फिर से संदिग्ध मानी गई. दिल्ली पुलिस पर आरोप लग रहे हैं कि वह जेएनयू कैंपस में घुसे बाहरी गुंडों को हैंडल करने में नाकाम रही और मीडियाकर्मियों के साथ कैंपस गेट पर हो रहे दुर्व्यवहार को रोकने में नाकाम रही. इस घटना से पहले एक और वाकया ये हुआ था कि जेएनयू फीस बढ़ोतरी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने सर्वर रूम को कब्जे में लेकर स्टूडेंट्स रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को रोक दिया था और अपनी मनमानी कर रहे थे.

जेएनयू कैंपस में घुसे बाहरी लोगों की गुंडागर्दी की वजह से न सिर्फ तनाव बढ़ा है, बल्कि जेएनयू की साख पर एक बार फिर बट्टा लगा है. जेएनयू में पढ़ने वाले आम स्टूडेंट और उनके पैरेंट्स के साथ ही जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन के लोग भी हैरान, परेशान और डर के साए में हैं और लोगों की निगाहें लगातार टीवी पर है कि आखिरकार देश की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में हो क्या रहा है और इसपर नरेंद्र मोदी सरकार और गृह मंत्री अमित शाह चुप क्यों है. हालांकि, जेएनयू हिंसा मामले में अमित शाह ने तत्काल जांच कमिटी गठित कर डिटेल रिपोर्ट सौंपने को कहा है और स्थिति जल्द से जल्द ठीक करने के लिए जरूरी निर्देश दिए हैं.

यहां देखें JNU Left Unity ABVP Clash Live Updates:

Live Blog

15:34 (IST)

JNU हिंसा के बाद पहली बार आया वाइस चांसलर का बयान- शांति की अपील के साथ कहा रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है

JNU हिंसा के बाद पहली बार आया वाइस चांसलर का बयान- शांति की अपील के साथ कहा रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. उन्होंने कहा कि हिंसा से किसी समस्या का समाधान नहीं हो पाएगा. सभी को मिलकर काम करने की जरूरत है.

12:45 (IST)

JNU रजिस्ट्रार डॉ. प्रमोद कुमार ने कहा- हम प्रदर्शनकारी छात्रों से बात कर रहे हैं ताकि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो सके

जवाहरलाल यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. प्रमोद कुमार ने कहा है कि यह कहना गलत है कि हम छात्रों से बात नहीं करते. हम विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों से भी लगातार बात कर रहे हैं ताकि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया जल्द से जल्द शुरू हो पाए.

12:33 (IST)

कांग्रेस की चार सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी आज सोनिया गांधी से मिलेगी, जेएनयू हमले पर सौंपेगी रिपोर्ट

कांग्रेस की चार सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी आज सोनिया गांधी से मिलेगी, जेएनयू हमले पर सौंपेगी रिपोर्ट. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी के अंदर जेएनयू में हुई हिंसा पर एक चार सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई है. जो इस घटना की जांच कर इसकी रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपेगी.

12:08 (IST)

पिंकी चौधरी के दावे की जांच करेगी पुलिस: सूत्र

हिंदू रक्षा दल के अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने जेएनयू में छात्रों पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली है. अब इस मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच पिंकी चौधरी के दावे की भी जांच करेगी. ऐसा सरकारी सूत्रों का कहना है.

12:06 (IST)

हिंदू रक्षा दल के पिंकी चौधरी ने ली JNU हमले की जिम्मेदारी

हिंदू रक्षा दल नाम के संगठन के अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने जेएनयू में हुए हमले की जिम्मेदारी ली है. पिंकी का कहना है कि यह यूनिवर्सिटी राष्ट्रविरोधियों का अड्डा बन गई थी, हिंदू धर्म के खिलाफ बातें यहां आम है इसलिए हमने इस घटना को अंजाम दिया. वो सारे हमारे ही लोग थे.

17:52 (IST)

JNUSU अध्यक्ष आईशी घोष का आरोप- आरएसएस और एबीवीपी के गुंडों ने पीटा

जेएनयूएसयू की प्रेजिडेंट आईशी घोष बीती रात जेएनयू में हुई हिंसा में बुरी तरह से घायल हो गई थीं. आज दोपहर हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद घोष ने कहा कि उन्हें आरएसएस और एबीवीपी के गुंडों ने सुनियोजित योजना के तहत पीटा. जेएनयूएसयू प्रेजिडेंट ने कहा कि 4-5 दिनों से योजना बनाकर ये हमला कराया गया है.

16:31 (IST)

टीएमसी नेताओं को जेएनयू कैंपस में जाने से रोका गया

जवाहर लाल यूनिवर्सिटी के कैंपस में जाने से तृणमूल कांग्रेस नेताओं की मनाही कर दी गई है. सोमवार को टीएमसी के सीनियर नेता शांतनु सेन, दिनेश त्रिवेदी, विवेक गुप्ता, मनीष भूईया, सजदा अहमद जेएनयू गेट के सामने दिखीं.

16:26 (IST)

जेएनयू गेट पर स्टूडेंट्स का भारी प्रदर्शन

जेएनयू स्टूडेंट्स की हॉस्टल में पिटाई का मामला काफी बढ़ गया है और स्टूडेंट्स ने प्रदर्शनकारी रवैया अपना लिया है. सोमवार की दोपहर जेएनयू के सैकड़ों छात्र-छात्राएं जेएनयू गेट के बाहर जुटकर प्रदर्शन करने लगे. प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए.

15:19 (IST)

जेएनयू में स्टूडेंट्स के साथ हिंसा की देशभर में हो रही आलोचना, देशव्यापी विरोध प्रदर्शन

जवाहर लाल यूनिवर्सिटी विश्वविद्यालय में स्टूडेंट्स के साथ हुई हिंसा मामले के विरोध में देशव्यापी प्रदर्शन हो रहे हैं. चंडीगढ़, पटना, दिल्ली, साउथ इंडिया, मुंबई समेत सभी प्रमुख शहरों में जेएनयू स्टूडेंट्स के समर्थन में हल्ला बोल रहे हैं.

14:46 (IST)

कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने जेएनयू हिंसा की आलोचना करते हुए मोदी-शाह को घेरा

जेएनयू में हुई हिंसा के मामले में कांग्रेस नरेंद्र मोदी सरकार पर हमलावर है. कल रात प्रियंका गांधी के जेएनयू कैंपस विजिट के बाद अब कांग्रेस के सीनियर नेता पी. चिदंबरम ने कहा है कि दिल्ली में स्थित देश की सबसे प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में इतना कुछ हो रहा है और नरेंद्र मोदी सरकार हाथ पर हाथ धड़े बैठी है.

13:42 (IST)

एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जेएनयू हिंसा के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की

जेएनयू में हुई हिंसा पर राजनीतिक गलियारों के काफी प्रतिक्रियाएं आ रही है. सोमवार को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि जेएनयू में नकाबपोश लोगों द्वारा की गई हिंसा की जांच होनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए. जेएनयू में जिस तरह की हिंसा हुई है, उसे पूरी दुनिया देख चुकी है.

12:58 (IST)

दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने जेएनयू कैंपस में छात्रा से बदतमीजी मामले में दिल्ली पुलिस को किया समन

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने जवाहर लाल यूनिवर्सिटी कैंपस में छात्राओं के साथ दुर्व्यवहार मामले में दिल्ली पुलिस को समन भेजा है. बीती रात कैंपस में कुछ बाहरी गुंडों ने छात्राओं के साथ मारपीट की थी.

12:46 (IST)

कांग्रेस ने जेएनयू हिंसा मामले में नरेंद्र मोदी सरकार और बीजेपी को ऐसे घेरा

कांग्रेस ने जेएनयू हिंसा मामले में बीजेपी और नरेंद्र मोदी सकार को छात्र विरोधी बताते हुए करारा ट्वीट किया-
जब नाश मनुज पर छाता है,
पहले विवेक मर जाता है.
दुर्योधन के लिए कही गई राष्ट्रकवि दिनकर जी की ये पंक्तियाँ आज भाजपाई सत्ता पर फिट बैठती है. विवेकहीन भाजपा सरकार दमन का जो हथकंडा अपना रही है, वही इनके विनाश का कारण बनेगा, क्योंकि लोकतंत्र में दमन की जगह नहीं है.