नई दिल्ली. क्या होता अगर बंटवारा हुआ ही न होता. पाकिस्तान नाम की कोई जगह ही न होती. तब न कश्मीर पर इतना बवाल होता.न हमें  एक ऐसे पड़ोसी के साथ रहना  पड़ता जिसका जन्म ही भारत विरोध के नाम पर हुआ. नरेंद्र मोदी सरकार के केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने शुक्रवार को दिल्ली के एक कार्यक्रम में कहा कि कुछ लोगों के स्वार्थ की वजह से देश का बंटवारा हुआ. अगर बंटवारा न हुआ होता तो आज धारा 370 और कश्मीर पर इस तरह की चर्चा करने की जरूरत नहीं पड़ती. डॉ. सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी ने कहा था कि बंटवारा मेरी लाश पर होगा. आजादी के दिन वो बहुत दुखी थे और दिल्ली में न रहकर बंगाल चले गए थे.

बता दें कि दिल्ली में विश्व हिंदी परिषद के एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, “देश का बंटवारा आधुनिक भारत की सबसे बड़ी भूल थी. कुछ लोगों की महत्वकांक्षा के चलते ही देश बंटा, यदि हम ये समझ गए होते तो आज जम्मू कश्मीर पर इस तरह की चर्चा करने की जरूरत न पड़ती. उन्होंने कहा तब न अनुच्छेद 370 होता और न इसे खत्म करने की जरूरत पड़ती. उन्होंने कहा कि इस एक घटना की वजह से इतिहास में हम कितना आगे गए या पीथे आए, इसका आंकलन आप खुद कर सकते हैं.

फेल हुई 2 नेशन थ्योरी
जितेंद्र सिंह ने कहा कि धर्म के आधार पर हुए बंटवारे में 2 नेशन थ्योरी का जिक्र किया गया. लेकिन बांग्लादेश के बनते ही 2 नेशन थ्योरी फेल हो गई. उसका कोई अर्थ नहीं रहा. लेकिन यहीं 2 नेशन थ्योरी 1947 में देश के विभाजन का कारण बनी. बता दें कि जितेंद्र सिंह जम्मू कश्मीर से आते हैं. बता दें कि नरेंद्र मोदी सरकार के धारा 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले के बाद से पड़ोसी देश पाकिस्तान के मुखिया इमरान खान बौखलाए हुए हैं. शुक्रवार को उन्होंने गुलाम कश्मीर (पीओके) के मुजफ्फराबाद में रैली की जिसमें उन्होंने काफी भड़काऊ भाषा का इस्तेमाल किया भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ.

Independence Day India Pakistan 2 Nation Theory: पाक पीएम इमरान खान के झूठ का तथ्यात्मक पर्दाफाश, जिन्ना की 2 नेशन थ्योरी और भारत के मुसलमान

Independence Day 2019: पाकिस्तानी स्वतंत्रता दिवस के दिन भारत में ट्विटर पर #HappyBirthdayBeta हुआ ट्रेंड, भारत-पाक के सोशल मीडिया यूजर में ट्विटर वॉर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App