Jitan Ram Manjhi Party HAM Left Mahagathbandhan: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने राजद-कांग्रेस गठजोड़ वाले महागठबंधन का साथ छोड़ दिया है. हम पार्टी के मुखिया जीतन राम मांझी ने महागठबंधन में समन्वय समिति नहीं होने और सर्वसम्मति से निर्णय नहीं करने का आरोप लगाते हुए महागठबंधन से किनारा कर लिया. जीतन राम मांझी ने घोषणा करते हुए कहा कि वह आगामी बिहार और झारखंड विधानसभा चुनाव अकेले दम पर लड़ेंगे. इस घटनाक्रम को देखते हुए संभावना जताई जा रही है कि आने वाले समय में जीतन राम मांझी भाजपा के खेमें में जा सकते हैं.

महागठबंधन से अलग होने की घोषणा के साथ ही जीतन राम मांझी का बीजेपी नेताओं से मिलने जुलने का सिलसिला तेज हो गया है. गुरुवार को बीजेपी के एमएलसी संजय पासवान ने हम पार्टी के मुखिया जीतन राम मांझी से मुलाकात की थी. शुक्रवार को बीजेपी विधायक रामप्रीत पासवान भी मांझी से मिलने पहुंचे थे. हालांकि इस दौरान दोनों के बीच क्या बातें हुईं इसका खुलासा नहीं हुआ है. बीजेपी नेताओं से मुलाकात पर जीतन राम मांझी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीतिक बात नहीं है. वे लोग व्यक्तिगत कारणों से मिलने आए थे और मैं एनडीए में शामिल नहीं हो रहा हूं.

बता दें कि इससे पहले गुरुवार को पटना के 12 एम स्ट्रैंड रोड स्थित आवास पर हम पार्टी के सभी जिला अध्यक्षों, राज्य और केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक में आरोप लगाते हुए जीतन राम मांझी ने कहा कि उनके बार-बार कहने के बावजूद महागठबंधन में को-ऑर्डिनेशन कमेटी का गठन नहीं किया गया. इस वजह से गठबंधन के सहयोगियों के बीच तालमेल का आभाव है. इस स्थिति में विधानसभा चुनाव अकेले लड़ना ही बेहतर होगा. बैठक में मांझी ने झारखंड विधानसभा चुनाव अकले लड़ने और उम्मीदवारों की घोषणा 10 नवंबर तक करने का ऐलान किया. साथ ही चुनाव को लेकर आगे की रणनीति तय करने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉक्टर संतोष कुमार सुमन को अधिकृत किया.

Ayodhya Ram Mandir Babri Masjid Verdict date: अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद फैसले से पहले 2 हेलीकॉप्टर किसी भी इमरजेंसी के लिए तैयार

3 years of Demonetisation: नोटबंदी के तीन साल बाद भी प्रभाव जारी, लोगों ने ठहराया मंदी के लिए दोषी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App