लखनऊ. आगामी लोकसभा चुनावों को मद्देनजर रखते हुए उत्तर प्रदेश की 80 लेकसभा सीटों पर सियायत बढ़ती जा रही है. सभी राजनीतिक दलों में यूपी की 80 सीटों को लेकर होड़ मची हुई है. वहीं बसपा सुप्रीमों मायावती और सपा के प्रमुख अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गठबंधन करके आने वाले चुनाव के लिए अपने इरादे साफ कर दिए हैं. ऐसे में सपा और बसपा के गठबंधन के तहत के सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल पार्टी के खाते में कितने सीटें मिलेंगी. इसके लिए आरएलडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने आज सपा प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की. इस मीटिंग के बाद जयंत चौधरी ने बताया कि अखिलेश जी के साथ बैठक अच्छी हुई है मैं आशा करता हूं कि हम अपने प्रयास में सफल होंगे. हालांकि इस बैठक के बाद भी सीटों पर सस्पेंस बरकरार बना हुआ है. 

गौरतलब है कि सपा और बसपा के गठबंधन के तहत ये दोनों पार्टियां आने वाले लोकसभा चुनाव में यूपी की 38-38 सीटों पर चुनाव लडेंगी. वहीं इस गठबंधन के आधार पर आरएलडी पार्टी को 2 सीटें देने का अनुमान लगाया जा रहा है. लेकिन सूत्रों की माने तो राष्ट्रीय लोकदल पार्टी 5 सीटों की मांग कर रही है. ऐसे में कयास ये भी लगाये जा रहे हैं आरएलडी के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी अखिलेश यादव के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर बसपा प्रमुख मायावती से भी मिल सकते हैं. इसके साथ ही जयंत ने कहा कि बात सिर्फ सीटों की नहीं है, बल्कि विश्वास की है. जिस प्रकार हमने कैराना चुनाव में अपने तालमेल को बनाये रखा था. उम्मीद है इस बार भी इसमें सफल होंगे.

आपको बता दे इससे पहले शनिवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ में प्रेस कान्फ्रेंस करके गठबंधन का घोषणा की थी. जिसकी तहत सपा और बसपा यूपी की 80 सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने उतरेंगी. साथ ही 2 सीटों को सहयोगी दल के लिए खाली छोड़ रखी है. तो वहीं कांग्रेस के गढ़ रायबरेली और अमेठी में इन दोनों पार्टी का कोई भी उम्मीदवार चुनाव लड़ने के लिए नहीं उतरेगा.

Bhim Army supports SP-BSP Alliance: लोकसभा चुनाव में भाजपा से छीनने के लिए सत्ता सपा-बसपा गठबंधन को समर्थन देगी भीम आर्मी

Akhilesh Yadav Tejaswi Yadav Press Conference: राजद नेता तेजस्वी यादव संग प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव- नए साल में देश में हो नई सरकार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App