जम्मू कश्मीर: जम्मू कश्मीर में आतंकी लगातार आम नागरिकों और कश्मीरी पंडितों को निशाना बना रहे हैं. गुरुवार को आतंकियों ने बड़गाम के चडूरा में तहसील परिसर में घुसकर कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या कर दी. राहुल भट्ट सरकारी कर्मचारी थे. राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने सेना से अपील की है कि उनके पति के हत्यारे को 2 दिन में मार गिराया जाए. उन्होंने घाटी में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा का भी मुद्दा उठाया। राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में बातचीत करते हुए कहा कि कश्मीरी पंडित यहां बिकुल भी सेफ नहीं है. आतंकी अपनी नापाक हरकतों से यहां दहशत फैलाना चाहते है. साथ ही मिनाक्षी ने कहा कि सरकार को भी हमारी फिक्र नहीं है, हमें बलि का बकरा बनाया जा रहा है. सरकार सुरक्षा के बारे में नहीं सोच रही है।

2 साल से मांग रहे थे ट्रांसफर

राहुल की पत्नी ने बताया कि राहुल भट्ट की तैनाती पहले बड़गांव डीसी ऑफिस में थी. 2 साल पहले उनका ट्रांसफर चाडूरा में कर दिया गया. हालांकि राहुल लगातार ट्रांसफर करने की बात कर रहे थे लेकिन डीसी बड़गांव और एसीआर ने इसे नहीं माना। मीनाक्षी ने बताया कि जब कश्मीर में 2 टीचर्स की हत्या हुई थी इसके बाद भी राहुल ने सुरक्षा का हवाला देते हुए ट्रांसफर की बात कही लेकिन कुछ नहीं हुआ.

48 घंटे के भीतर आतंकी को दी जाए मौत

मीनाक्षी ने कहा कि आतंकी सरकार की जिद का बदला हमसे ले रहे हैं. उन्होंने सेना से अपील की कि राहुल के हत्यारों को 2 दिन में गोली मारी जानी चाहिए। मिनाक्षी ने कहा कि आर्मी ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि वे 2 दिन में आतंकी को घसीट कर मारेंगे। उन्होंने कहा कि जब ऐसा होता है तब सेना काम करती हैं, ये लोग पहले ही इन आतंकियों को क्यों नहीं मारते। सिक्योरिटी क्यों नहीं रखते अब जो मेरे पति की हत्या कर दी गई है अब मारने से क्या होगा?

नाम पूछकर मारी गोली

मीनाक्षी भट्ट ने बताया कि चाडूरा तहसील परिसर में कोई सुरक्षा नहीं थी. आतंकी खुलेआम आए और उन्होंने पूछा कि राहुल भट्ट कौन है. इसके बाद उन्होंने राहुल पर गोलियां बरसा दी. मीनाक्षी ने बताया कि उन्हें हिलने का भी मौका नहीं दिया गया, इतना ही नहीं उन्होंने संदेह जताया कि कोई अंदर का कर्मचारीआतंकियों के साथ मिला था तभी उनके पति का नाम आतंकियों को पता लगा. मीनाक्षी ने आगे कहा कश्मीर में हालात बहुत खराब है. यहां कश्मीरी पंडितो की सुरक्षा का कोई भरोसा नहीं है. उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि तहसील में यदि सुरक्षा होती तो उनके पति की जान बच जाती।
मिनाक्षी ने बताया कि उनकी राहुल से 10 मिनट पहले ही बात हुई थी, तब वो ठीक थे उन्होंने घर आने की बात कही थी

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर