नई दिल्ली. कठुआ गैंगरेप मामले पर सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का जम्मू क्राइम ब्रांच ने खंडन किया है. क्राइम ब्रांच ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है जिसमें कहा है कि कठुआ में मासूम के साथ रेप हुआ था. प्रेस रिलीज में कहा गया कि कठुआ गैंगरेप मामले पर पिछले काफी दिनों से प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और सोशल मीडिया पर तरह-तरह की जानकारियां साझा की गई हैं. जांच की कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद कोर्ट में चार्जशीट पेश की गई.

प्रेस रिलीज के मुताबिक प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के एक धड़े ने सोशल मीडिया पर एक जानकारी को शेयर किया जो सच्चाई से कोसों दूर है. मेडिकल एक्सपर्ट्स ने दावे के साथ कहा कि आरोपियों ने बच्ची से रेप किया था. उनके मुताबिक बच्ची का हाइमन भी फटा हुआ था. मेडिकल एक्सपर्ट्स की राय के आधार पर इस केस में धारा 376 को जोड़ा गया. इसके अलावा मेडिकल एक्सपर्ट ने संदेह से परे पुख्ता किया कि पीड़िता को कैद में रखा गया, उसे नशीले पदार्श खिलाए गए और दम घुटने के कारण उसकी दिल की गति रुक गई.

गौरलब है कि कठुआ गैंगरेप मामले पर हिंदी अखबार दैनिक जागरण ने अपने फ्रंट पेज पर खबर छापी थी. इस खबर में दावा किया कि बच्ची के साथ गैंगरेप नहीं हुआ. अखबार ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट को आधार बनाकर ये खबर छापी थी. इसके अलावा अखबार ने अपनी वेबसाइट पर भी इस खबर को चलाया. लेकिन इस खबर पर विवाद बढ़ा तो वेबसाइट पर ये खबर हटा दी गई. लेकिन कुछ ही घंटों में इस खबर को फिर से वेबसाइट पर लगा दिया गया. 

इस खबर के सामने आने के बाद खलबली मच गई और सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई. क्योंकि इस अखबार ने जम्मू क्राइम ब्रांच की चार्जशीट पर सवालिया निशान खड़े कर दिए. 

 

कठुआ में बच्ची से गैंगरेप नहीं: दैनिक जागरण ने पहले खबर छापी, फिर हटाई, अब फिर से लगाई

रेप, रेप होता है इस पर राजनीति ना करें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App