नई दिल्ली. मुस्लिम धर्मगुरुओं का प्रतिनिधित्व करने वाले धार्मिक संगठन जमीयत उलमा-ए-हिंद के मुखिया मौलाना मदनी ने गुरुवार को कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और सभी कश्मीरी उनके हमवतन हैं. जमीयत उलमा-ए-हिंद की सामान्य परिषद की बैठक के दौरान जम्मू कश्मीर से धारा 370 के प्रावधानों को कमज़ोर करने के नरेंद्र मोदी सरकार के फैसले पर सहमती जताते हुए एक संकल्प में कहा गया कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और सभी कश्मीरी हमारे हमवतन हैं. कोई भी अलगाववादी आंदोलन न केवल देश के लिए, बल्कि कश्मीर के लोगों के लिए भी हानिकारक है.

उन्होंने कहा, हम कश्मीरी लोगों के लोकतांत्रिक और मानव अधिकारों की रक्षा करना हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य समझते हैं. फिर भी, यह हमारा दृढ़ विश्वास है कि उनका कल्याण भारत के साथ एकीकृत होने में निहित है. गलत लोग और पड़ोसी देश कश्मीर को तबाह करने पर तुले हुए हैं.

जमीयत उलमा-ए-हिंद के महमूद मदनी ने कहा, हमने आज एक प्रस्ताव पारित किया है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. हमारे देश की सुरक्षा और अखंडता के साथ कोई समझौता नहीं होगा. भारत हमारा देश है और हम इसके साथ खड़े हैं.

यहां देखिए महमूद मदनी ने कहा, कश्मीर हमारा था, हमारा है, हमारा रहेगा. जहां भारत है वहीँ हम.

उन्होंने कहा, पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय मंच पर यह प्रोजेक्ट करने की कोशिश कर रहा है कि भारत के मुसलमान भारत के खिलाफ हैं, हम पाकिस्तान की इस हरकत की निंदा करते हैं.

जमीयत उलमा-ए-हिंद के महमूद मदनी से पूछा गया कि यदि सरकार पूरे देश में एनआरसी लागू करने का निर्णय लेती है तो क्या होगा? इस पर उन्होंने जवाब दिया कि, मेरा जी चाहता है कि मैं डिमांड करुं की सारे मुल्क में कर लो, पता चल जाएगा की घुसपैठिये कितने हैं. जो असली हैं उनके ऊपर भी दाग लगाया जाता है तो पता चल जाएगा, मुझे कोई दिक्कत नहीं है.

यहां देखें बैठक की चर्चा

जमीयत उलमा-ए-हिंद को भारत में सबसे प्रभावशाली मुस्लिम समूहों में से एक माना जाता है. देवबंदी स्कूल से संबंधित, 1919 में जमीयत उलमा-ए-हिंद की स्थापना की गई. अगस्त के अंत में, जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने दिल्ली में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से लंबी बैठक की, जहां उन्होंने कथित तौर पर सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा की.

UN on Kashmir Mediation: कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र से बड़ा झटका, भारत-पाक के बीच मध्यस्थता से इनकार

Habeas Corpus In SC For Farooq Abdullah Search: जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला को ढूंढने के लिए राज्यसभा सांसद वाइको ने सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की हैबियस कोर्पस याचिका

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App