नई दिल्ली: दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के मौके पर निकाली गई शोभा यात्रा के दौरान बड़ी हिंसा की साजिश रची गई थी। साजिश बड़े स्तर पर रची गई थी उसका अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि इस मामले में जमकर हिंसा व पथराव किया गया था. इतना ही नहीं, इस घटना के गिरफ्तार आरोपियों से भारी मात्रा में हथियार व तलवारें बरामद की गई हैं। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीमें इस पूरी साजिश का पर्दाफाश करने में जुटी हुई है। इसके अलावा इस मामले में पुलिस ने लगभग 15 आरोपियों की पहचान की है। सभी आरोपी अभी फरार हैं।

क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि अभी तक की जांच में इन बातों का खुलासा हुआ है कि शोभा यात्रा के दौरान बड़े स्तर पर हिंसा की साजिश रची गई थी। गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से अभी तक आठ पिस्तौल व आठ तलवारें बरामद की गई हैं। जानकारी के अनुसार, नामी बदमाश सोनू चिकना ने शोभा यात्रा पर गोली चलाई थी। क्राइम ब्रांच के अनुसार अभी तक मुख्य आरोपी अंसार समेत कुल 33 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका हैं। इस हिंसा में शामिल तीन नाबालिग भी पकड़े गए हैं। पुलिस के अनुसार अभी इसमें से करीब 15 आरोपी फरार हैं। घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज व मोबाइल सर्विलांस की मदद से सभी फरार आरोपियों की पहचान कर ली गई है।

इनमें से पुलिस ने कुछ दंगाइयों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करवा रखे हैं। पुलिस के अनुसार ज्यादातर आरोपी दिल्ली से पश्चिमी बंगाल फरार हो गए हैं। भागे हुए आरोपियों को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस की कई टीमें धरपकड़ में लगी हुई हैं। पुलिस की जांच में ये भी पता चला है कि अंसार की मोबाइल के पुर्जे बेचने की भी दुकान थी। दुकान तो वह आरोपी दिखावे के लिए चलाता था, मगर उसका असली धंधा सट्टेबाजी करना था। वह सट्टेबाजी से मोटा पैसा कमाता था और लोगों को ब्याज पर पैसे देकर रकम वसूलता था.

यह भी पढ़े:

गुरुग्राम के मानेसर में भीषण आग, मौके पर दमकल की 35 गाड़ियां

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर