नई दिल्ली. बॉलीवड और हॉलीवुड के शानदार एक्टर इमरान खान की 54 साल की उम्र में मौत हो गई. तबीयत बिगड़ने की वजह से मंगलवार को उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती किया गया था जहां इरफान ने अपनी आखिरी सांस ली. इरफान की खान के निधन पर पूरा बॉलीवुड सदमे में है. इरफान खान एक ऐसे अभिनेता थे जिन्हें उनकी एक्टिंग के लिए हमेशा याद किया जाएगा. उनके डायलॉग्स बोलने का अंदाज हर किसी का दिल छू जाता. नीचे पढ़िए उनके कुछ फिल्मों के शानदार डायलॉग्स.

फिल्म पान सिंह तोमर
“बीहड़ में बागी होते हैं, डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में.” रियल लाइफ बेस्ड फिल्म पान सिंह तोमर का ये डायलॉग सभी को याद है जिसने भी ये फिल्म देखी होगी.

फिल्म गुंडे
“पिस्तौल की गोली और लौंडिया की बोली जब चलती है, तो जान दोनों में ही खतरे में होती है.”

फिल्म डी-डे
“गलतियां भी रिश्‍तों की तरह होती हैं, करनी नहीं पड़ती, हो जाती हैं.”

फिल्म जज़्बा
”शराफत की दुनिया का किस्‍सा ही खतम, अब जैसी दुनिया वैसे हम.”

फिल्म साहेब बीवी और गैंगस्टर
इरफान खान के “हमारी तो गाली पर भी ताली पड़ती है.” डायलॉग पर सिनेमाघरों में भी तालियां बजती थीं.

फिल्म तलवार
तलवार मर्डर केस पर बनी फिल्म के डायलॉग “किसी भी बेगुनाह को सज़ा मिलने से अच्छा है दस गुनहगार छूट जायें.” ने भी खूब सुर्खियां बटोरी हैं.

फिल्म द किलर
“बडे शहरों की हवा और छोटे शहरों का पानी, बड़ा खतरनाक होता है.” फिल्म द किलर के इस डायलॉग से एक सच्चाई झलकती है.

फिल्म ये साली जिंदगी
फिल्म ये साली जिंदगी का डायलॉग “लोग सुनेंगे तो क्‍या कहेंगे, चुतिया आशिकी के चक्कर में मर गया, और लौन्डिया भी नहीं मिली.” लोग खासकर युवा वर्ग जब भी सुनता है हंस पड़ता है.

फिल्म चॉकलेट
“शैतान की सबसे बड़ी चाल ये है कि, वो सामने नहीं आता.” ये डायलॉग किसी भी पीठ पीछे बार करने वाले लोगों को लेकर अब अक्सर बोला जाता है.

फिल्म हैदरी
“आप जिस्म है तो मैं रुह, आप फानी में लफानी.”

फिल्म लाइफ इन मेट्रो
“ये शहर हमें जितना देता है, बदले में कहीं ज्‍यादा हम से ले लेता है.’’ ये भी एक सच्चाई है.

फिल्म हासिल
“और जान से मार देना बेटा, हम रह गये ना, मारने में देर नहीं लगायेंगे,भगवान कसम.” इरफान खान का ये डायलॉग भी उनकी संवाद अदायगी को अलग बनाता है.

फिल्म पीकू
“डेथ और शिट, किसी को, कहीं भी, कभी भी, आ सकती है.” ये जीवन की सच्चाई है लेकिन इरफान के बोलने का अंदाज इसे अलग बनाता है.

फिल्म द लंच बॉक्स
“आई थिंक वी फॉरगेट थिंग्‍स इफ देयर इज नो बॅडी टू टेल देम.” अंग्रेजी का ये डायलॉग भी इनकी इस शैली में शामिल है.

फिल्म लाइफ ऑफ पाई
“हंगर कैन चेंज एवरीथिंग यू थॉट यू न्यू आउट युअरसेल्‍फ।”

फिल्म जुरासिक वर्ल्‍ड
“द की टू ए हैप्‍पी लाइफ इज टू एक्‍सेप्‍ट यू आर नेवर एक्‍चुअली इन कंट्रोल.”

फिल्म मदारी
“तुम मेरी दुनिया छीनोगे, मैं तुम्‍हारी दुनिया में घुस जाऊंगा.” ये डायलॉग भी इनकी इस लिस्ट का एक अहम डायलॉग है.

फिल्म हिंदी मीडियम
“एक फ्रांस बंदा, जर्मन बंदा स्‍पीक रॉन्‍ग इंग्‍लिश, वी नो प्रॉब्‍लम, एक इंडियन बंदा से रॉन्‍ग इंग्‍लिश, बंदा ही बेकार हो जाता है जी.” उनका ये मजेदार डायलॉग सबकुछ कहता है.

फिल्म करीब करीब सिंगल
“टोटल तीन बार इश्‍क किया, और तीनों बार ऐसा इश्‍क मतलब जानलेवा इश्‍क, मतलब घनघोर हद पार.”

फिल्म जज्बा
” नींद ना माशुका की तरह होती है, वक्त ना दो तो बुरा मानकर चली जाती है.”

”रिश्तों में भरोसा और मोबाइल में नेटवर्क ना हो तो लोग गेम खेलने लगते हैं.”

फिल्म चॉकलेट
”इंडिया में आर्टिस्ट की कद्र नहीं है और इंडिया के बाहर इंडियन आर्टिस्ट की.”

फिल्म गुंडे
”लकीरें बहुत अजीब होती है, गाल पे खिंच जाए तो खून निकाल देती है और जमीन पर खइंच जाए तो सरहदें बना देती है.”

Irrfan Khan died: बॉलीवुड एक्टर इरफान खान का 53 में निधन, मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में अंतिम सांस ली

Irrfan Khan Death Social Media Reaction: कैंसर से जिदंगी की जंग हार गए बॉलीवुड एक्टर इरफान खान, सोशल मीडिया पर लोग बोले- आप जैसा कोई दूसरा नहीं आएगा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर