नई दिल्लीं: आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप से चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के वापस हटने के बाद अब खबर है कि गगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पंतजलि भी इस दौड़ में शामिल हो गई है. पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने कहा है कि हम इस साल आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप के बारे में सोच रहे हैं, क्योंकि हम पतंजलि ब्रांड को एक वैश्विक मंच पर ले जाना चाहते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को इसके लिए एक प्रस्ताव भेजने की तैयारी कर रहे हैं.

जानकारी के मुताबिक पतंजलि के अलावा ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी ऐमजॉन, फैंटसी स्पोर्टस कंपनी ड्रीम 11 और टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सर और ऑनलाइन लर्निंग कंपनी बायजूज भी इस साल के टाइटल स्पॉन्सरशिप की दौड़ में शामिल हैं. आज आईपीएल और बीसीसीआई की होने वाली बैठक में फैसला लिया जाएगा कि आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप किसे दी जाती है.

जानकारों का मानना है कि वीवो के विकल्प के दौर पर एक राष्ट्रीय ब्रांड के तौर पर पंतजलि का दावा बहुत मजबूत है लेकिन उनका यह भी मानना है कि उसमें एक मल्टीनैशनल ब्रांड के तौर पर स्टार पावर की कमी है. गौरतलब है कि चीनी मोबाइल कंपनी वीवो ने 2022 तक आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप खरीदी हुई थी जिसके बदले वो हर साल बीसीसीआई को 440 करोड़ रूपये देती थी लेकिन इस साल भारत-चीन सीमा पर हुए विवाद के बाद बीसीसीआई ने वीवो का कॉन्ट्रेक्ट रद्द कर दिया और अब टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए नई कंपनी का चुनाव किया जाएगा.

IPL 2020: चीनी मोबाइल फोन कंपनी वीवो से छिनी आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप, BCCI ने लगाई मुहर

IPL 2020 Schedule: 19 सितंबर से यूएई में आईपीएल 2020 का आगाज, 10 नवंबर को होगा फाइनल मुकाबला