ईटानगरः भारत की ओर के कड़े रुख के बाद चीन अरुणाचल प्रदेश में निर्माण कार्य रोकने को राज हो गया है. जिसके बाद भारतीय सेना ने भी चीनी सैनिकों को जब्त की हुई मशीनें लौटा दी है. बता दें कि हाल ही में चीनी सेना सड़क निर्माण कार्य के लिए अरुणाचल प्रदेश के लाइन ऑफ कंट्रोल यामी एलएसी टूटिंग इलाके में घुस आई थी. आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने बताया कि दो दिन पहले बॉर्डर पर्सनल मीटिंग में टूटिंग का विवाद सुलझ गया है. वहीं चीन ने डोकलाम में तैनात अपने सौनिकों की संख्या भी घटाई है.

बता दें पिछले महीने चीनी ने अरुणाचल प्रदेश ने भारतीय सीमा के एक किमी अंदर तक विशिंग गांव के पास सड़क निर्माण की कोशिश की थी जिस पर भारतीय सैनिकों उन्हें रोक उनसे सड़क बनाने वाली मशीने जब्त कर ली थीं. जिस पर 6 जनवरी को बॉर्डर पर्सनल मीटिंग हुई . आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने बताया कि मीटिंग में इस मुद्दे को सुलझा लिया गया है.

दिल्ली के आर्मी टेक्नोलॉजी सेमिनार में पहुंचे जनरल बिपिन रावत ने मीडिया को बताया कि आर्मी की सभी फील्ड में टेक्नोलॉजी की बेहद जरूरत है, क्योंकि भविष्य में विपरीत परिस्थितियों और खतरनाक क्षेत्रों में युद्ध लड़ने होंगे जिसके लिए हमें तैयार रहने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि हल्के वजन वाले बुलेट प्रूफ मटेरियल और ईंधन सेल टेक्नोलॉजी उपलब्ध करवाने की एक अच्छी पहल शुरू हुई है, जो आगे भी जारी रखी जाएगी.

यह भी पढ़ें- अरुणाचल प्रदेशः चीन ने फिर की घुसपैठ की कोशिश, सड़क बनाने की मशीनों के साथ भारतीय सीमा में 200 मीटर तक घुस आए चीनी सैनिक

डोकलाम: फिर बढ़ेगी भारत-चीन के बीच तनातनी, 1800 चीनी सैनिकों ने डाला डेरा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App