वाराणसी. पवित्र गंगा के किनारे स्थित बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी से बैंकाक की सीधी फ्लाइट सेवा शुरू हो चुकी है. भारत के प्राचीनतम शहर बनारस या वाराणसी से थाईलैंड की राजधानी बैंकाक की विमान सेवा भारतीय विमानन कंपनी इंडिगो ने शुरू किया है. 16 दिसंबर से शुरू हुए इस इंटरनेशनल रूट पर पहले ही दिन 71 यात्री बैंकाक की स्वर्ण भूमि एयरपोर्ट से वाराणसी पहुंचे. बनारस पहंचने पर फ्लाइट का वाटर कैनन से स्वागत किया गया. उसके बाद से नियमित यह सेवा जारी है. इस विमानन रूट को सोशल मीडिया पर यूजरों ने ‘पाप एंड प्रायश्चित’ का अनोखा नाम दिया है.

इस नाम के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि एक और वाराणसी को पवित्र तीर्थ स्थल माना जाता है. वहीं दूसरी ओर बैंकाक आधुनिक फैशन से लकदक शहर के रूप में जाना जाता है. वाराणसी न केवल हिंदूओं के लिए बल्कि बौद्ध धर्म के अनुयायियों का भी तीर्थ स्थल है. वाराणसी से 10 किलोमीटर दूर सारनाथ है. जहां गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था. इसे बौद्ध धर्म में धर्म चक्र प्रवर्तन का नाम दिया जाता है. सारनाथ और वाराणसी में हमेशा तीर्थयात्रियों की भीड़ जमा रहती है.

दूसरी ओर बैंकाक अतिआधुनिक शहर होने के नाते भारतीय जनमानस में बसे कई गैर सामाजिक कामों के लिए मशहूर है. बैंकाक में मसाज का बड़ा कारोबार है. भारत के कई लोग बैंकाक मौज-मस्ती के लिए भी जाते हैं. शायद यही कारण है कि ट्विटर यूजर बैंकाक से वाराणसी विमानन रूट को पाप से प्रायश्चित का रूट बता रहे है. बताते चले कि बैंकाक से वाराणसी का किराया 7999 है, जबकि वाराणसी से बैंकाक का किराया 7499 है. बैंकाक जाने के लिए जरूरी कागजातों में सिर्फ पासपोर्ट की जरूरत होती है. यात्रियों को वीजा ऑन एराइवल मिल जाता है. वाराणसी समेत पूर्वी यूपी और बिहार के हजारों युवा नौकरी की तलाश में भी बैंकाक जाते-आते हैं.

Shivlinga Thrown Near Drain: योगी आदित्यनाथ के राज में नाले किनारे फेंके शिवलिंग, वीडियो वायरल होने पर मचा हड़कंप

T-18 Train Delhi to Varanasi: दिल्ली से वाराणसी के बीच चलेगी पहली T-18 ट्रेन, 29 दिसंबर को पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App