चेन्नई. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने आज सुबह 9.28 पर श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से एकसाथ 31 उपग्रहों को प्रक्षेपित किया है, इसमें भारत के 3 और 6 अन्य देशों के 28 उपग्रह शामिल हैं. जिन छह देशों के उपग्रहों को प्रक्षेपित किया गया है उनमें कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के तीन माइक्रो और 25 नैनो उपग्रह शामिल हैं. सैटेलाइट केन्द्र निदेशक एम. अन्नादुरई ने बताया कि माइक्रो उपग्रह अंतरिक्ष में भारत का 100वां उपग्रह है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अर्थ नैविगेशन के लिए प्रक्षेपित किया गया 100वां उपग्रह कार्टोसेट-2 सीरीज मिशन का प्राथमिक उपग्रह है. इसके साथ सह यात्री उपग्रह भी है, जिसमें 100 किलोग्राम के माइक्रो और 10 किलोग्राम के नैनो उपग्रह भी शामिल हैं. कार्टोसेट-2 सीरीज के इस मिशन के सफल होने के बाद धरती की अच्छी गुणवत्ता वाली तस्वीरें मिलेंगी.  इन तस्वीरों का इस्तेमाल सड़क नेटवर्क की निगरानी, अर्बन ऐंड रूरल प्लानिंग के लिए किया जा सकेगा. भारत के लिए यह लॉन्चिंग इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके पहले पीएसएलवी-39 मिशन असफल रहा था.

वहीं भारत के इस उपलब्धि पर पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पाकिस्तान की ओर से कहा गया है कि भारत जिन उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रहा है, उससे वह दोहरी नीति अपना रहा है. इन उपग्रहों का इस्तेमाल नागरिक और सैन्य उद्देश्य में किया जा सकता है. आपको बता दें कि चार महीने पहले 31 अगस्त 2017 इसी तरह का एक प्रक्षेपास्त्र पृथ्वी की निम्न कक्षा में देश के आठवें नेविगेशन उपग्रह को वितरित करने में असफल रहा था. पीएसएलवी-सी40 वर्ष 2018 की पहली अंतरिक्ष परियोजना है.

अंतरिक्ष में अपना 100वां उपग्रह भेजकर एक और इतिहास रचेगा ISRO

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App