नई दिल्लीः डॉलर के मुकाबले रुपये में आ रही गिरावट मंगलवार को भी जारी रही. डॉलर के मुकाबले रुपया लुढ़ककर 72.69 के स्तर तक पहुंच गया है. माना जा रहा है कि ये अभी तक की सबसे बड़ी गिरावट है. बता दें कि पिछले कई दिनों से जारी इस गिरावट के चलते पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग कम होने का नाम नहीं ले रही है. मंगलवार को भी ईंधन की कीमतों में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई जिसका असर पर खाने-पीने की वस्तुओं के दामों पर भी पढ़ने लगा है. डीजल महंगा होने से इन आइटम का ट्रांसपोर्टेशन चार्ज बढ़ रहा है जिससे खाने-पीने की वस्तुएं महंगी हो रही हैं. 

बता दें कि डॉलर के मुकाबले लगातार गिर रहे रुपये की वजह से आयात महंगे हो जाते हैं जिससे आम जनता को महंगाई की मार झेलनी पड़ती है. इस वजह से तेल के दाम भी बढ़ते हैं जिसके चलते सब्जियों के साथ-साथ खाने-पीने की दूसरी वस्तुओं की कीमत में भी बढ़ोत्तरी होती है. साथ ही डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होने से विदेशों में पढ़ाई और छुट्टियां बिताना भी महंगा हो जाता है वहीं कंप्यूटर, स्मार्टफोन और कार के सात आयात की गई दूसरी वस्तुओं की कीमत में इजाफा होता है. 

डॉलर के मुकाबले गिर रहे रुपये के चलते पिछले कई दिनों से पेट्रोल-डीजल के दाम भी बढ़ रहे हैं. जिसके चलके विपक्ष लगातार सरकार पर हमला बोल रहा है. इसी कड़ी में कांग्रेस ने सोमवार को केंद्र सरकार के खिलाफ भारत बंद भी बुलाया था. जिसका असर देश के कई राज्यों में देखने को मिला इल दौरान कई जगह हिंसक घटनाएं भी हुईं. 

डॉलर के मुकाबले 72.30 के नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंचा रुपया, जानें क्या होगा असर

देश में मचा पेट्रोल-डीजल पर घमासान, आखिर क्यों अभी कम नहीं हो सकते इनके दाम, ये हैं 10 बड़ी वजह