नई दिल्लीः अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये में गिरावट लगातार जारी है. जिसके चलते पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगी महंगाई की आग भी बुझने का नाम नहीं ले रही है. सोमवार को रुपया रिकॉर्ड निचले स्तर तक पहुंच गया. आज रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 72.30 के नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया. बता दें पिछले कई दिनों से डॉ़लर के मुकाबले रुपये में गिरावट लगातार जारी है जो सोमवार को बढ़कर 72.30 के स्तर तक पहुंग गया. जिसके चलते आम आदमी को महंगाई की मार भी झेलनी पड़ रही है. आपको बता दें कि डॉ़लर के मुकाबले रुपये में लगातार गिरावट के चलके पेट्रोल-डीजल के दाम भी पिछले कई दिनों से बढ़ रहे हैं. सोमवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़त जारी रही. 

जानें क्या होगा असर

डॉलर के मुकाबले लगातार गिर रहे रुपये की वजह से आम जनता को महंगाई की मार झेलनी पड़ेगी क्योंकि रुपया कमजोर होने से आयात महंगे हो जाते हैं. जिससे तेल के दाम बढ़ते हैं जिस वजह से सब्जियां और खाने-पीने की अन्य चीजों की वस्तुओं पर असर पड़ता है. वहीं रुपया कमजोर होने से विदेशों में पढ़ाई और छुट्टिया बिताना भी महंगा होगा साथ ही कंप्यूटर, स्मार्टफोन और कार के साथ आयात की दूसरी चीजें भी महंगी होंगी. 

हालांकि रुपये स्तर गिरने पर आर्थिक मामलों के मंत्रालय के सचिव सुभाष गर्ग का कहना था कि ये एक अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रम है. आरबीआई के पास पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार है वहीं साल 2013 में डॉलर के मुकाबले 69 रुपया था. लेकिन पिछले कई दिनों में डॉलर के मुकाबले रुपये में रिकॉर्ड स्तर पर गिरावट दर्ज की गई है. 

यह भी पढ़ें- फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम तो नरेंद्र मोदी सरकार पर बरसी शिवसेना, पूछा- क्या यही हैं अच्छे दिन

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान बोले- रुपया सबसे ज्यादा मजबूत, डॉलर बढ़ा रहा सिरदर्द

 

 

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App