चंडीगढ़. Indian Pakistan Delegation Talk On Kartarpur Corridor Live Updates: सिखों के लिए सबसे पवित्र धार्मिक स्थल माने जाने वाले पाकिस्तान स्थित करतारपुर साहिब के मसले पर आज रविवार 14 जुलाई को भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल के बीच अहम बातचीत हुई जिसमें पाकिस्तान ने भारत की कई मांगें मान ली. करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर वाघा-अटारी बॉर्डर पर पाकिस्तान की तरफ भारत और पाक प्रतिनिधिनमंडल के बीच बैठक हुई, जिसमें कई मसले हल करने पर भारत और पाक का जोर रहा. भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों ने करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर रविवार को महत्वपूर्ण बातचीत की जिसमें पाकिस्तान से आग्रह किया गया है कि सिख धार्मिक पर्वों के दौरान 10,000 से ज्यादा श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन करने की इजाजत दी जाए. पाकिस्तान इस बात पर राजी हो गया है कि हर दिन 5,000 श्रद्धालु करतारपुर साहिब गुरुद्वारा का दर्शन कर पाएंगे. इसके साथ ही पाकिस्तान एक पुल बनाने को भी राजी हो गया है जिसके जरिये श्रद्धालु बाढ़ प्रभावित इस इलाके में आसानी से गुरुद्वारा का दर्शन कर पाएं. 

दरअसल, करतारपुर कॉरिडोर के साथ ही इस साल 22 नवंबर को होने वाली गुरु नानक की 550वीं जयंती से पहले करतारपुर साहिब की यात्रा और इससे जुड़े सर्विलांस, फीस, सुरक्षा समेत अन्य मसलों के हल के लिए भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच बैठक हुई. दरअसल, करतारपुर साहिब के मसले पर पाकिस्तान के उदासीन रवैये से श्रद्धालुओं के साथ ही केंद्र और पंजाब सरकार को भारी दवाब झेलना पड़ रहा है.

करतारपुर गलियारे को लेकर भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल के बीच जिन मसलों पर बातचीत हो रही है, उनमें सबसे अहम मुद्दा ये है कि भारत चाहता है कि करतारपुर साहिब के लिए भारतीय श्रद्धालु हफ्ते में सातों दिन यात्रा करें, लेकिन पाकिस्तान की इसपर रजामंदी नहीं है. भारत ये भी चाहता है कि करतारपुर साहिब दर्शन के लिए हर रोज 5,000 श्रद्धालु सीमापार करें, लेकिन पाकिस्तान 500 से 700 श्रद्धालुओं को ही इजाजत देने पर अड़ा है. माना जा रहा है कि करतारपुर कॉरिडोर को खोलने और बंद करने पर आज भारत और पाकिस्तान के बीच सहमति बन सकती है. करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर बातचीत के लिए अटारी वाघा बॉर्डर पहुंचे भारतीय प्रतिनिधिमंडल को गृह मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी (आंतरिक सुरक्षा) एससीएल दास और विदेश मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी (PAI- पाकिस्तान अफगानिस्तान और ईरान) दीपक मित्तल लीड कर रहे हैं.  

भारत और पाकिस्तान के बीच असहमति के जो अन्य मुद्दे हैं, वे हैं- भारत श्रद्धालुओं को पैदल जाने की अनुमति चाहता है. वहीं विशेष पर्व के अवसर पर 10,00 श्रद्धालुओं को करतारपुर साबिह के दर्शन करने की पाक से इजाजत और दर्शन के लिए किसी तरह की फीस न लेने की बात भारत करता रहा है, लेकिन पाकिस्तान इस जिद पर अड़ा है कि सिर्फ सिख श्रद्धालु ही करतारपुर साहिब का दर्शन करेंगे. साथ ही पाक दर्शन के लिए हर यात्रियों से 20 डॉलर वसुलने की बात करता है. भारत चाहता है कि बिना फीस के श्रद्दालुओं को परमिट मिले, वहीं पाकिस्तान चाहता है कि करतारपुर साहिब दर्शन के लिए वीजा की तर्ज पर परमिट फीस देनी होगी.

यहां देखें Indian Pakistan Delegation Talk On Kartarpur Corridor Live Updates:

दोपहर 2:00 बजेः भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों ने करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर रविवार को महत्वपूर्ण बातचीत की जिसमें पाकिस्तान से आग्रह किया गया है कि सिख धार्मिक पर्वों के दौरान 10,000 से ज्यादा श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन करने की इजाजत दी जाए. पाकिस्तान इस बात पर राजी हो गया है कि हर दिन 5,000 श्रद्धालु करतारपुर साहिब गुरुद्वारा का दर्शन कर पाएंगे. इसके साथ ही पाकिस्तान एक पुल बनाने को भी राजी हो गया है जिसके जरिये श्रद्धालु बाढ़ प्रभावित इस इलाके में आसानी से गुरुद्वारा का दर्शन कर पाएं. 

दोपहर 1:30 बजेः करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर रविवार दोपहर विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि भारत ने पाकिस्तान से आग्रह किया कि करतारपुर कॉरिडोर से हर दिन 5,000 श्रद्धालुओं को जाने दिया जाए. भारतीय अधिकारियों ने कहा कि सिख समुदाय के साथ ही अन्य श्रद्धालुओं की काफी संख्या है जो करतारपुर साहिब आना चाहते हैं.   

दोपहर 1:00 बजेः करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच जारी बातचीत में करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के आसपास बाढ़ प्रभावित सड़कों को फिर से बनाने की बात उठी. भारतीय अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तान करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के आसपास के इलाकों का पुनरुद्धार करे.

12:00 बजे- पाकिस्तान और भारत के अधिकारी बाघा अटारी बॉर्डर पर करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर बातचीत कर रहे हैं. करतारपुर साहिब कॉरिडोर को जल्द से जल्द शुरू करवाने को लेकर आज कुछ ठोस फैसला आने की उम्मीद है.

सुबह 11:30 बजे- करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर वाघा अटारी बॉर्डर पहुंचे भारतीय अधिकारियों का पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैजल ने स्वागत किया था. 10 से ज्यादा भारतीय अधिकारियों का प्रतिनिधिमंडल पाकिस्ताने के हिस्से वाले वाघा बॉर्डर पहुंचे हैं.

सुबह 11:05 बजे- भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल के बीच करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर बातचीत शुरू हो चुकी है. अटारी वाघा बॉर्डर पर भारत और पाकिस्तान के अधिकारी सिखों के धार्मिक स्थल करतारपुर साहिब की यात्रा से जुड़े मसले का हल निकालने की पूरी कोशिश करेंगे, ताकि करतारपुर कॉरिडोर जल्द से जल्द बन सकें और लोग करतारपुर साहिब का आसानी से दर्शन कर सकें.

सुबह 10:55 बजे-करतारपुर कॉरिडोर के मसले पर बातचीत के लिए अटारी वाघा बॉर्डर पहुंचे भारतीय प्रतिनिधिमंडल को गृह मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी (आंतरिक सुरक्षा) एससीएल दास और विदेश मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी (PAI- पाकिस्तान अफगानिस्तान और ईरान) दीपक मित्तल लीड कर रहे हैं.  

सुबह 10:45 बजे- पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैजल ने रविवार सुबह करतारपुर साहिब के मसले पर कहा कि करतारपुर गलियारा को शुरू करने की दिशा में पूरी तरह प्रतिबद्ध है और भारत सरकार और श्रद्धालुओं की भावना का कद्र करती है. गुरुद्वारा का 70 फीसदी निर्माण पूरा हो चुका है. मैं आज अच्छी और सकारात्मक बातचीत की उम्मीद करता हूं. 

सुबह 10:35 बजे- भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों ने रविवार सुबह जानकारी दी कि दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल आज सुबह 9 बजे के बाद पाकिस्तान साइड वाले वाघा-अटारी बॉर्डर पर मिलेंगे और करतारपुर साहिब गलियारे के मसलों का हल निकालने की संभावना तलाशेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App