ब्यूनस आयर्स (अर्जेंटीना). साल 2021 में भारत में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन को एक साल के लिए टाल दिया गया है. अब भारत साल 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा. साल 2022 में भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो रहे है. इस कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 से जुड़े सभी सदस्य देशों से 2021 की बजाए 2022 में भारत में शिखर सम्मेलन आयोजित करने की अपील की थी. पीएम मोदी की इस अपील को सभी सदस्य देशों ने मान लिया है. गौरतलब हो कि पहले साल 2021 में भारत की मेजबानी में जी-20 शिखर सम्मेलन होने का प्रस्ताव था. लेकिन पीएम मोदी की अपील पर सदस्य देशों की सहमति के बाद अब भारत 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन का मेजबान होगा.

जी-20 शिखर सम्मेलन 2018 का आयोजन अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में हुई. जहां शनिवार को जी-20 समिट के समापन से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह प्रस्ताव दिया. प्रधानमंत्री मोदी ने पहले इस प्रस्ताव को इटली से साझा किया, जहां 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन आयोजित होने का प्रस्ताव था. इटली की रजामंदी के बाद सभी सदस्य देशों के सामने प्रधानमंत्री मोदी ने अपने प्रस्ताव को रखा.

जी-20 दुनिया की 20 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों का समूह है. इस समूह में भारत, जर्मनी, अमेरिका, फ्रांस और चीन समेत 20 सदस्य शामिल हैं. सितंबर 1999 में इस संगठन की स्थापना हुई थी. स्थापना के समय संगठन का प्रमुख उद्देश्य दुनिया के प्रमुख वित्तीय संगठनों के एक साथ एक मंच पर लाना था. जी-20 के सदस्य देशों में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राज़ील, कनाडा, चीन, फ़्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ़्रीका, कोरिया, तुर्की, युनाइटेड किंगडम, अमरीका और यूरोपीय संघ.

जी-20 शिखर सम्मेलन में सभी सदस्य राष्ट्र वैश्विक चुनौतियों पर विचार विमर्श करते हैं. अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में हुए साल 2018 के जी-20 शिखर सम्मेलन में आतंकवाद सहित अन्य गंभीर वैश्विक चुनौतियों पर बातचीत हुई. इस सम्मेलन में भाग लेने अर्जेंटीना पहुंचे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिखर सम्मेलन से इतर अन्य राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की. साल 2022 में जब भारत अपनी आजादी का 75वीं सालगिरह मना रहा होगा, तब उस जश्न में दुनिया के शीर्ष 20 देश भी शामिल होंगे.

G-20 समिट में नहीं होगी पीएम मोदी और शी जिनपिंग की मुलाकात, चीन बोला- तनाव के बीच बातचीत नहीं 

Agra Hanuman Mandir Dalit Claim: योगी आदित्यनाथ के बयान के बाद आगरा के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर पर दलितों ने ठोंका दावा 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App